बड़ी खबर सोशल

स्मृति ईरानी को क्यों ढूढ़ रहे लोग, ट्विटर पर ट्रेंड ‘#स्मृति_ईरानी_आप_कहाँ_हो’

नई दिल्ली। केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी को लोग सोशल मीडिया पर ढूंढ़ रहे हैं। ट्विटर पर अचानक ही ट्रेंड में आये #स्मृति_ईरानी_आप_कहाँ_हो के पीछे अहम कारण लद्दाख सीमा पर चीनी सैनिको से हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिको की शहादत है।

यूपीए शासन के दौरान सीमा पर पाक सैनिको संघर्ष होने पर सभी बीजेपी नेता आक्रामक हो जाते थे। वे सड़क से संसद तक सरकार पर हमले बोलते थे। सरहद पर तनाव को लेकर कई बार बीजेपी नेताओं ने तत्कालीन पीएम डा मनमोहन सिंह को कमज़ोर प्रधानमंत्री तक कह दिया।

खुद पीएम नरेंद्र मोदी ने गुजरात का मुख्यमंत्री रहते तत्कालीन पीएम डा मनमोहन सिंह को लेकर कई टिप्पणी कई बार गंभीर टिप्पणी की थी। इतना ही नहीं वर्ष 2013 में स्मृति ईरानी ने डा मनमोहन सिंह को चूड़ियां भेंट करने का इरादा भी जताया था।

मुंबई में 26/11 के हमले को लेकर स्मृति ईरानी ने डा मनमोहन सिंह को लेकर एक न्यूज़ चैनल के कार्यक्रम में कहा था कि “जो शख्‍स 10 साल तक नहीं बोला, वह मोदी का जलवा देखकर बोल रहा है।” उन्‍होंने कहा, “ये शख्‍स सेना के अनुरोध के बावजूद 26/11 के मुंबई आतंकवादी हमले का बदला लेने में विफल रहा। संभवतः उनके पास सर्जिकल स्ट्राइक का आदेश देने की हिम्मत या क्षमता नहीं थी।”

ये भी पढ़ें:  लान्सेट काउंटडाउन की पांचवीं वार्षिक रिपोर्ट का दावा: कोविड तो बस झांकी है, पिक्चर अभी बाकी है

अब मामला उल्ट चुका है। खुद नरेंद्र मोदी भारत के प्रधानमंत्री हैं। उनके शासनकाल में बालाकोट, पठानकोट और अब लद्दाख जैसी बड़ी घटनाएं हुई हैं। कभी डा मनमोहन सिंह को कोसने वाले नेता ख़ामोशी साधे हैं। डा मनमोहन सिंह को चूड़ियां भेंट करने की बात कहने वाली केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी से लोग सवाल कर रहे हैं कि क्या लद्दाख में भारतीय सैनिको की शहादत पर वे पीएम मोदी को चूड़ियां भेंट करने की हिम्मत दिखाएंगी।

इस मामले में स्मृति ईरानी की प्रतिक्रिया न मिलने के बाद ट्विटर पर यूजर्स ने स्मृति ईरानी को ढूंढने के लिए #स्मृति_ईरानी_आप_कहाँ_हो’ ट्रेंड चलाया है। इस पर ट्विटर यूजर्स की तरह तरह की प्रतिक्रियाएं आ रही हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें