उत्तर प्रदेश देश बड़ी खबर राज्य

गज़ब: यूपी सरकार का सुप्रीमकोर्ट में तर्क, “पाकिस्तान से आ रही हैं प्रदूषित हवाएं”

नई दिल्ली। वायु प्रदूषण को लेकर उत्तर प्रदेश सरकार ने अजीब तर्क दिया है। सरकार का कहना है कि प्रदूषित हवाएं पाकिस्तान से आ रही हैं। सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई के दौरान प्रदेश सरकार के वकील रंजीत कुमार ने कहा कि इन दिनों उत्तर भारत के मैदानी इलाकों में प्रदूषित हवाएं पाकिस्तान से आ रही हैं क्योंकि राज्य हवा की दिशा में नीचे की तरफ है।

रंजीत कुमार के इस तर्क पर पीठ ने उनसे कहा, ‘इसलिए आप चाहते हैं कि पाकिस्तान में उद्योगों को प्रतिबंधित कर दिया जाए।’ दरअसल दिल्‍ली एनसीआर में प्रदूषण के मसले पर उत्तर प्रदेश सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में एनसीआर में स्थित चीनी मिलों का मामला उठाया था।

इस पर उत्तर प्रदेश सरकार का कहना है कि अगर क्लीन फ्यूल से नहीं चलने वाले उद्योगों को सिर्फ आठ घंटे चलने की इजाजत होगी तो चीनी मिलें कैसे चलेंगी।

प्रदेश सरकार की ओर से पेश वकील रंजीत कुमार ने कहा कि अभी गन्ना पिराई और चीनी मिलों का सीजन चल रहा है। अगर क्लीन फ्यूल से नहीं चलने वाले उद्योगों को सिर्फ आठ घंटे चलने की इजाजत होगी तो चीनी मिलें कैसे चलेंगी। इन्हें लगातार चलाना पड़ता है। मिलों में बायलर ही 48 घंटे में गर्म होता है। ऐसे तो चीनी मिलें बंद हो जाएंगी। चीनी मिलें बंद होने से गन्ना किसानों को नुकसान होगा।

ये भी पढ़ें:  पूर्वांचल में जेडीयू ने बढ़ाया बीजेपी का टेंशन, चुनिंदा सीटों पर अकेले चुनाव लड़ने का एलान

रंजीत कुमार की दलीलों पर पीठ ने पूछा कि एनसीआर में कितनी चीनी मिलें हैं। रंजीत कुमार ने कहा कि सही गिनती उन्हें नहीं मालूम, लेकिन गजरौला की चीनी मिल एनसीआर में आती है, इसके अलावा मेरठ, बागपत आदि भी एनसीआर में हैं। कोर्ट ने प्रदेश सरकार से कहा कि वह इस बात को आयोग के समक्ष रखे और आयोग कानून के मुताबिक उस पर विचार करेगा।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें