उत्तर प्रदेश राज्य

यूपी में 6 महीने के लिए एस्मा लगा, आरटी-पीसीआर जांच के लिए 15 जिलों का चयन

लखनऊ ब्यूरो। उत्तर प्रदेश सरकार ने अगले 6 महीने तक के लिए एस्मा लगा दिया है। अब अगले 6 महीने तक सरकारी कर्मचारी हड़ताल पर नहीं जा सकेंगे। एस्मा लागू होने के बाद प्रदेश सरकार और राज्य सरकार के अधीन आने वाले प्राधिकरणों व निगमों में हड़ताल पर रोक लगा दी गई है।

प्रदेश सरकार द्वारा 6 महीने के लिए एस्मा लागू किये जाने आदेश के बाद कर्मचारी 25 मई तक हड़ताल पर नहीं जा सकेंगे। यदि एस्मा लागू होने के बावजूद कोई हड़ताल पर जाता है तो उसके खिलाफ एस्मा के तहत कार्रवाही होगी।

माना जा रहा है कि प्रदेश में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलो को ध्यान में रखते हुए सरकार ने एस्मा लागू किया है। जिससे आवश्यक सेवाओं पर हड़ताल का ग्रहण न लग सके।

उत्तर प्रदेश अपर मुख्य सचिव स्वास्थ्य अमित मोहन प्रसाद के मुताबिक जहां ज्यादा मामले सामने आ रहे हैं, ऐसे इलाकों में ज्यादा से ज्यादा सैंपल्स लेकर आरटी-पीसीआर जांच की जाएगी। इसके लिए 15 जिले चुने गए हैं, जिनमें ये काम तुरंत शुरू होना है।

ये 15 जिले हैं- लखनऊ, कानपुर नगर, प्रयागराज, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर, गोरखपुर, वाराणसी, मेरठ, अलीगढ़, झांसी, सहारनपुर, आगरा, बरेली, मुरादाबाद, मुज़फ़्फ़र नगर। इन 15 जिलों में 11 से 25 नवंबर के बीच दर्ज़ किए गए कोविड मामलों को मैप पर प्लॉट करना है और जिन इलाकों में संक्रमण ज्यादा है वहां फोकस सर्विलांस और फोकस टेस्टिंग करनी है।

ये भी पढ़ें:  शिवपाल नहीं करेंगे अपनी पार्टी का सपा में विलय, तीन उम्मीदवारों के नाम किये घोषित

उन्होंने कहा कि आज मुख्यमंत्री द्वारा निर्णय लिया गया है कि अब आरटी-पीसीआर और एंटीजन टेस्ट का अनुपात 40:60 होगा। कल प्रदेश में 1,78,549 सैंपल्स की जांच की गई, जो अब तक एक दिन में सबसे ज्यादा संख्या में टेस्टिंग है।

अमित मोहन प्रसाद के मुताबिक अब तक कुल 1,84,70,887 सैंपल्स की जांच की जा चुकी है। पिछले 24 घंटों में प्रदेश में 2318 नए कोविड मामले दर्ज़ किए गए। प्रदेश में सक्रिय मामलों की कुल संख्या 24,876 है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें