बड़ी खबर राजनीति

राजनाथ के बयान पर उद्धव का निशाना: बीजेपी सावरकर और गांधी दोनों को नहीं समझ पाई

मुंबई। वीर सावरकर को भारत रत्न देने की मांग करने वाली शिव सेना ने वीर सावरकर और महात्मा गांधी के बीच से निकलकर बीजेपी पर निशाना साधा है। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने वीर सावरकर को लेकर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा दिए गए बयान पर बीजेपी को कटघरे में खड़ा किया है।

शिवसेना की वार्षिक दशहरा रैली में उद्धव ठाकरे ने कहा कि बीजेपी वीर सावरकर और महात्मा गांधी दोनों ही को नहीं समझ सकी है। इतना ही नहीं उद्धव ठाकरे ने राजनाथ सिंह का नाम लिए बिना कहा कि कहा कि बीजेपी आज अमृत महोत्सव की बात कर रही है लेकिन आज कल के छोटे लोग सावरकर और गांधी जी पर बात कर रहे हैं।

उद्धव ठाकरे ने कहा कि इन लोगों को खुद से पूछना चाहिए कि इन्होंने स्वतंत्रता के लिए क्या किया. उन्होंने तंज कसते हुए कहा कि जैसे स्वतंत्रता की लड़ाई में दोनों का कोई लेना-देना ही नहीं था। उन्होंने बीजेपी को नसीहत देते हुए कहा कि जोर-जोर से नारे लगाने वाले देशभक्तों को पीछे मुड़कर देखना चाहिए कि इन लोगों ने देश की स्वतंत्रता के लिए क्या किया था।

ये भी पढ़ें:  क्या अयोध्या के बाद मथुरा को अपनी राजनीतिक ढाल बनाने जा रही बीजेपी

गौरतलब है कि वीर सावरकर को लेकर दिए गए अपने बयान में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने दावा किया था कि अंडमान के सेलुलर जेल में बंद रहने के दौरान महात्मा गांधी ने वीर सावरकर को ब्रिटिश सरकार को दया याचिका भेजने की सलाह दी थी।

हालांकि राजनाथ सिंह का दावा इतिहास के तथ्यों से मेल नहीं खाता। इतिहास में दिए गए तथ्यों के मुताबिक, 1915 में जब महात्मा गांधी अपने वतन भारत वापस लौटे थे, तब तक सावरकर दो बार- 1911 और 1913 में दया याचिका दायर कर चुके थे, ऐसे में सावरकर ने गांधी के कहने पर कैसे माफी मांगी?

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें