बड़ी खबर मनोरंजन

भारी पड़े विवादित ट्वीट, ट्विटर ने कंगना का एकाउंट स्थाई तौर पर किया बंद

नई दिल्ली। बड़बोली अभिनेत्री कंगना रनौत को अपने विवादित ट्वीट उस समय महंगे साबित हुए जब ट्विटर ने उनका एकाउंट स्थाई रूप से सस्पेंड कर दिया। पश्चिम बंगाल में तृणमूल कांग्रेस की जीत के बाद कंगना रनौत ने कई विवादित और मनगढ़ंत आरोप वाले ट्वीट किये थे, जिसके बाद ट्वीटर ने उनका एकाउंट स्थाई रूप से निलंबित कर दिया।

कंगना ने आज सुबह ही टीएमसी पर गैंगरेप का आरोप लगाकर ट्वीट किया था। जिसके बाद ही उनके अकाउंट को सस्पेंड किया गया है। कंगना ने ट्वीट में कहा था कि टीएमसी के गुंडो ने बीजेपी की कार्यकर्ता के साथ गैंगरेप किया है।

इतना ही नहीं उन्होंने कहा कि इंदिरा गांधी ने 39 बार आपातकाल लगाया था। उन्होंने कहा कि अंतर्राष्ट्रीय मीडिया भारत को इस बात की परवाह नहीं है कि आप क्या सोचते हैं, यह गवार खून प्यासे राष्ट्र प्रेम मोदी जी की भाषा नहीं समझते हैं, उन्हें डंडा चाहिए।

अपना ट्वीटर एकाउंट सस्पेंड होने के बाद कंगना ने ट्विटर पर अपनी भड़ास निकालते हुए कहा कि ट्विटर ने मेरी बात को सही साबित किया है कि वे जन्म से अमेरिकी हैं। एक सफेद व्यक्ति को एक भूरे रंग के व्यक्ति को गुलाम बनाने का हक लगता है, वे चाहते हैं आप वो ही करें जो वो कहें. मेरे पास कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म हैं जिसका इस्तेमाल करके मैं अपनी आवाज उठा सकती हूं।

ये भी पढ़ें:  श्रीलंका ने राष्ट्रीय सुरक्षा को कारण बताते हुए बुर्के पर लगाई पाबंदी

गौरतलब है कि सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद सुर्ख़ियों में आई कंगना रनौत ने अपने उल जलूल बयानों से कई बार अपनी किरकिरी कराई है। उनके विवादित ट्वीट के लिए बॉम्बे हाईकोर्ट ने न सिर्फ उन्हें फटकार लगाई थी बल्कि सोशल मीडिया पर शब्दों का चयन करने में सावधानी बरतने की हिदायत भी दी थी।

कंगना रनौत अपने विवादित ट्वीट के कारण कई मुकदमो में उलझ चुकी है। प्रख्यात गीतकार जावेद अख्तर ने कंगना रनौत के खिलाफ मानहानि का आपराधिक मामला दर्ज कराया हुआ है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें