बड़ी खबर राजनीति

यस बैंक में फंसे कई राज्य सरकारों के पैसे, सुरजेवाला ने ट्वीट कर पूछा ‘ये संयोग है या प्रयोग’

नई दिल्ली। यस बैंक में जहाँ आम कारोबारियों और बचत खाताधारकों का पैसा फंसा है वहीँ कई राज्य सरकारों का पैसा भी यस बैंक में उलझ गया है। यस बैंक में हरियाणा सरकार के भी लगभग 2500 करोड़ रुपये फंस गए हैं। वहीँ गुजरात की राजकोट महानगर पालिका के 164 करोड़ फंसे होने का मामला भी सामने आया है।

हरियाणा सरकार के जिन 2500 करोड़ रुपये की बात की जा रही है उसमे एक हजार करोड़ रुपये अकेले हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम लिमिटेड के हैं। राजकोट महानगर पालिका के यस बैंक में 164 करोड़ रुपये जमा हैं, यह पैसा स्मार्ट सिटी योजना का है।

आरबीआई के आदेश के बाद से 3 अप्रैल तक 50 हजार रुपये से ज्यादा नहीं निकाला जा सकता है, इसके चलते मुश्किल खड़ी हो गई है। राजकोट महानगर पालिका के डिप्टी कमिश्नर चेतन नंदानी के मुताबिक ‘हमने पैसे निकालने के लिए रिज़र्व बैंक से रियायत देने की मांग की है।’

निजी बैंक में इतनी बड़ी तादाद में सरकारी पैसा क्यों जमा कराया गया, इसे लेकर अब सवाल उठ रहे हैं। कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर सरकार पर तंज कसा। सुरजेवाला ने ट्वीट कर पूछा ‘यह संयोग है या प्रयोग।’

ये भी पढ़ें:  दिल्ली में कोरोना का तांडव जारी: 24 घंटे में 395 की मौत

सुरजेवाला ने ट्वीट में लिखा ‘आरबीआई ने यस बैंक को वीक गवर्नन्स व पूंजी क्वॉलिटी के गलत आंकलन बारे 22 सितंबर, 2019 को पत्र लिखा था। यस बैंक 12 फरवरी, 2020 को स्टॉक एक्स्चेंज से पूंजी तलाशता रहा पर नहीं मिली। फिर भी महीना भर पहले हरियाणा विद्युत प्रसारण निगम ने 1,000 करोड़ डूबते बैंक में क्यों जमा कराए? संयोग है या प्रयोग?’

इससे पहले आज यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) अपने मुंबई ऑफिस लेकर गई, जहा उनसे पूछताछ की जा रही है। इससे पहले उनके खिलाफ मनी लांड्रिंग का मामला दर्ज कर उनके मुंबई स्थित आवास पर छापेमारी की गई थी। डीएचएफएल के घोटाले को लेकर राणा कपूर के घर ईडी की छापेमारी की गई है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें