बड़ी खबर राजनीति

ओवैसी और शिवपाल में हुई मुलाकात, क्या बदल रहे यूपी के समीकरण

लखनऊ। आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष शिवपाल यादव के बीच शनिवार को आजमगढ़ में हुई मुलाकात को लेकर सियासी मायने निकाले जा रहे हैं।

हालांकि ओवैसी और शिवपाल की मुलाकात एक विवाह समारोह में हुई लेकिंन इस मुलाकात के दौरान दोनों नेताओं ने अलग बैठकर काफी देर तक बातचीत की। इसलिए माना जा रहा है कि दोनों नेताओं के बीच उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर भी बातचीत हुई है।

वहीँ शिवपाल सिंह यादव ने ओवैसी के साथ हुई बैठक को लेकर कहा कि वह शादी समारोह में आये हैं और उनकी एआईएमआईएम के अध्‍यक्ष ओवैसी के साथ बैठक हुई है।

उन्‍होंने कहा कि हम पहले ही कह चुके हैं कि समान विचारधारा और सभी धर्मनिरपेक्ष शक्तियों के लोग मिलकर भारतीय जनता पार्टी को देश और प्रदेश से उखाड़ फेंकेंगे।

शिवपाल यादव ने कहा कि उत्तर प्रदेश में 2022 के विधानसभा चुनाव में भाजपा को हराने के लिए समाजवादी परिवार को एकजुट होने की जरूरत है। हमने सपा अध्‍यक्ष अखिलेश यादव से भी कहा है कि सबको एकत्र करें और उसमें हमको भी साथ लें।

ये भी पढ़ें:  लखनऊ में कल से नाइट कर्फ्यू का एलान

गौरतलब है कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए गठबंधन “भागीदारी संकल्‍प मोर्चा” बनाने की तैयारियों के मद्देनज़र हाल ही में सुहेलदेव समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने भी हाल ही में एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी से मुलाकात की थी।

ओमप्रकाश राजभर इसी क्रम में शिवपाल सिंह यादव से भी मुलाकात कर चुके हैं। रविवार को भागीदारी संकल्‍प मोर्चा के संयोजक और सुहेलदेव समाज पार्टी के अध्‍यक्ष ओमप्रकाश राजभर से जब ओवैसी और शिवपाल की मुलाकात के संदर्भ में पूछा गया तो उन्‍होंने कहा,” मैं व्‍यस्‍त होने के कारण आजमगढ़ में आयोजित कार्यक्रम में शरीक नहीं हो सका।

राजभर ने कहा कि मुझे इस बात की जानकारी नहीं हैं कि दोनों नेताओं के बीच क्‍या बातचीत हुई है, लेकिन मुझे उस दिन का इंतजार है कि जब शिवपाल सिंह यादव पत्रकार वार्ता आयोजित कर भागीदारी संकल्‍प मोर्चा में शामिल होने की घोषणा करेंगे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें