देश बड़ी खबर

अमित शाह से मिलने जायेंगे शाहीनबाग के प्रदर्शनकारी, गृह मंत्रालय ने किया इंकार

नई दिल्ली। नागरिकता कानून के खिलाफ शाहीन बाग़ में पिछले दो महीने से प्रदर्शन कर रहे लोगों ने शनिवार को कहा कि वे नागरिकता कानून को वापस लेने की मांग लेकर गृह मंत्री अमित शाह से मिलेंगे।

हालाँकि गृह मंत्रालय ने ऐसी कोई बैठक होने से इंकार किया है। गृह मंत्रालय के मुताबिक शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों से मिलने का अभी कोई समय तय नहीं हुआ है।

प्रदर्शनकारियों के मुताबिक एक शाहीन बाग़ का प्रतिनिधिमंडल रविवार को गृहमंत्री अमित शाह से मिलने उनके सरकारी आवास पर जाएगा। हालाँकि शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकरियों में गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात को लेकर एक राय नहीं हैं।

शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों का एक गुट चाहता है कि गृह मंत्री अमित शाह से मिलकर नागरिकता कानून को वापस लेने की मांग रखी जाए। वहीँ दूसरा गुट इसके पक्ष में नज़र नहीं आता। दूसरे गुट का कहना है कि सरकार का कोई प्रतिनिधि प्रदर्शन स्थल पर आये और बातचीत का औपचारिक न्यौता दे। उसके बाद ही बातचीत के लिए कदम आगे बढ़ाया जाए।

वहीँ प्रदर्शनकारियों के मुताबिक अभी हाल ही में गृहमंत्री अमित शाह ने बयान दिया था कि वे नागरिकता कानून को लेकर किसी से भी बातचीत को तैयार हैं। अमित शाह का यह बयान शाहीन बाग़ के प्रदर्शनकारियों से बातचीत की संभावनाओं को जन्म देता है।

ये भी पढ़ें:  अर्नब की मुश्किलें बढ़ीं, पुलिस ने दायर की 1914 पेज की चार्जशीट

नागरिकता कानून को लेकर सुप्रीमकोर्ट में 143 याचिकाएं लंबित हैं। 22 जनवरी को सुनवाई के बाद सुप्रीमकोर्ट ने इस मामले में केंद्र सरकार से चार सप्ताह में जबाव माँगा है। इसलिए माना जा रहा है कि नागरिकता कानून को लेकर 22 से 27 फरवरी के बीच सुप्रीमकोर्ट में सुनवाई हो सकती है।

दूसरी तरफ नागरिकता कानून के विरोध में देशभर में प्रदर्शनों का दौर जारी है। दिल्ली और उत्तर प्रदेश में लखनऊ के अलावा प्रयागराज, कानपुर, आजमगढ़, तमिलनाडु में चेन्नई और मदुरै, कर्नाटक में बेंगलुरु सहित देश के कई शहरो में प्रदर्शन जारी हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें