बड़ी खबर राजनीति

कोरोना पर दिल्ली में बैठकर लेक्चर न दें जावड़ेकर: संजय राउत

मुंबई। महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण को लेकर राज्य में लॉकडाउन की आशंकाओं पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावड़ेकर और पूर्व सीएम देवेंद्र फड़नवीस के बयानों पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने पलटवार किया है। संजय राउत ने कहा, “कोरोना के खिलाफ युद्ध कोई भारत-पाक युद्ध नहीं है। किसी को कोविड-19 के खिलाफ इस लड़ाई का राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए।”

संजय राउत ने संवाददाताओं से कहा, “देवेंद्र फड़नवीस एक पूर्व मुख्यमंत्री हैं। उन्होंने कहा कि लोग लॉकडाउन नहीं चाहते हैं. हाँ हम इसे जानते हैं लेकिन लोगों के जीवन को बचाने के लिए क्या उपाय है?

उन्होंने कहा, “दिल्ली में बैठकर प्रकाश जावड़ेकर को लेक्चर नहीं देना चाहिए। उन्हें यहां आना चाहिए और देखना चाहिए। उनका राज्य से भी कनेक्शन है … किसी को भी इसका राजनीतिकरण नहीं करना चाहिए।”

गौरतलब है कि कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलो को लेकर शनिवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने सर्वदलीय बैठक बुलाई थी। इस बैठक में महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलो के मद्देनज़र लॉकडाउन लगाए जाने को लेकर चर्चा हुई थी।

बैठक में मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने साफतौर पर कहा था कि जनता को थोड़ा कड़वा डोज देना जरूरी है। कोरोना को कंट्रोल करना है तो अगले कुछ दिनों के लिए महाराष्ट्र में कड़क लॉकडाउन लगाना जरूरी है इसके बाद धीरे-धीरे एक-एक चीज खोली जानी चाहिए।

ये भी पढ़ें:  नंदीग्राम पर चुनाव आयोग ने तोड़ी चुप्पी, रिटर्निंग ऑफिसर ही ले सकते हैं रीकाउंटिंग का फैसला

इस मामले में रविवार को मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने टास्क फ़ोर्स के साथ भी चर्चा की है। वहीँ सोमवार को कैबिनेट की बैठक बुलाई गई है। इस बैठक में लॉकडाउन को लेकर अंतिम फैसला किया जाएगा।

राजेश टोपे ने मुख्यमंत्री से बातचीत के बाद मीडिया से बात करते हुए बैठक में तय हुए मुद्दों की जानकारी दी। स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने बताया कि ये बैठक सिर्फ टास्क फोर्स के विशेषज्ञों की थी। इसमें लॉकडाउन पर सहमति जताई गई। ज्यादातर सदस्यों की यही राय थी कि लॉकडाउन ही एकमात्र विकल्प है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें