लाइफ स्टाइल साहित्य

सलिल सरोज की ग़ज़ल: निभाना आ गया है

जब से अपना जख्म छिपाना आ गया
फिर हम को सब से निभाना आ गया

जिन्हें चाहते थे, उनका दीदार हुआ तो
बेसब्र बरसात में भी पसीना आ गया

जुर्म करने वाले जुर्म करते रहे शौक से
दौरे-सज़ा मजलूम पे निशाना आ गया

वो दिन- रात हक़ की पैरवी करता रहा
पर लोग कहते हैं इक दीवाना आ गया

कभी भूख का इलाज हुआ करती थी
अब रोटी से खेल का ज़माना आ गया

जब अपनी सेहत पे असर पड़ने लगा
तब हमें भी दुआ में हाथ उठाना आ गया

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें