बड़ी खबर राजनीति राजस्थान राज्य

जितिन प्रसाद के कांग्रेस छोड़ने पर सचिन पायलट ने बीजेपी को दिया ये जबाव

नई दिल्ली। पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद के कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल होने के बाद कांग्रेस के भविष्य और पार्टी में युवा चेहरों की अनदेखी को लेकर बीजेपी द्वारा उठाये गए सवालो का राजस्थान के पूर्व उप मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने करारा जबाव दिया है। उन्होंने बीजेपी को अपने अंदर झाँकने की सलाह दी।

कांग्रेस नेता सचिन पायलट ने भारतीय जनता पार्टी नेताओं पर पलटवार करते हुए कहा है कि प्रदेश के भाजपा नेताओं को व्यर्थ बयानबाज़ी की बजाय अपनी स्थिति पर गंभीरता से विचार करना चाहिए।

सचिन पायलट ने उनके बयान पर भाजपा नेताओं की बयानबाजी पर सोशल मीडिया के जरिए यह बात कही। उन्होंने कहा कि आपसी फूट एवं अंतर्कलह इतनी हावी है कि राज्य मे भाजपा विपक्ष की भूमिका भी नहीं निभा पा रही। इनकी नाकाम नीतियों से देश में उपजे संकट में जनता को अकेला छोड़ने वालों को जनता करारा जवाब देगी

गौरतलब है कि गुरुवार को पूर्व केंद्रीय मंत्री और कांग्रेस के कद्दावर नेता जितिन प्रसाद भाजपा में शामिल हुए। इसके बाद पायलट खेमा फिर से सक्रिय नजर आया। हालांकि यह पहली बार नहीं है। इसके बाद पायलट को लेकर भी चर्चाएं तेज हो गईं।

ये भी पढ़ें:  कांवड़ यात्रा से योगी सरकार का यूटर्न, कांवड़ यात्रा निरस्त

इससे पहले मंगलवार को भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष सतीश पूनियां ने पायलट के बयान “हमसे किए गए वादे दस महीने बाद भी पूरे नहीं” पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा था कि कांग्रेस के भीतर चल रहे झगड़े और अंतर्कलह का मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने भाजपा को दोषी ठहराया था लेकिन आज हकीकत प्रदेश की जनता के सामने है।

इसी तरह उपनेता राजेन्द्र सिंह राठौड ने कहा था कि आखिर मन का दर्द होठों पर आ ही गया। ये चिंगारी कब बारूद बनकर फूटेगी, ये तो आने वाला वक्त ही बताएगा। कांग्रेस को सत्ता तक पहुंचाने में तत्कालीन कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष सचिन पायलट ने अहम भूमिका निभाई थी। सुलह कमेटी के पास मुद्दे अब भी अनसुलझे ही हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें