बड़ी खबर राजनीति राजस्थान राज्य

राजस्थान: मंत्रिमंडल में फेरबदल से पायलट खुश, कहा ‘पार्टी में कोई गुटबंदी नहीं’

जयपुर। राजस्थान में नई केबिनेट का गठन हो गया है। रविवार को अशोक गहलोत सरकार के नए 11 कैबिनेट और 4 राज्यमंत्रियों ने शपथ ग्रहण की। नए मंत्रिमंडल में सचिन पायलट के समर्थक पांच विधायको को भी जगह दी गई है।

इनमे विश्वेंद्र सिंह, रमेश मीणा और हेमाराम चौधरी को कैबिनेट मंत्री तथा ब्रिजेंद्र ओला और मुरारी मीणा को राज्यमंत्री बनाया गया है। नए मंत्रिमंडल के गठन से सचिन पायलट खुश दिखाई दिए।

मीडिया से बात करते हुए सचिन पायलट ने कहा, “कल राजस्थान के कैबिनेट का पुनर्गठन हुआ था। आज प्रदेश के राज्यपाल नए मंत्रियों को शपथ दिलाएंगे। मुझे खुशी है कि कांग्रेस पार्टी, सोनिया गांधी और प्रदेश की सरकार ने जो कुछ कमियां थीं उसे पूरा किया है।”

उन्होंने कहा कि नई कैबिनेट में 4 दलित मंत्रियों को जगह दी गई है। हमारी पार्टी चाहती है कि दलित, उपेक्षित, पिछड़े लोगों का प्रतिनिधित्व हर जगह होना चाहिए। काफी समय से हमारी सरकार में दलितों का प्रतिनिधित्व नहीं था अब भरपाई की है। आदिवासियों का भी प्रतिनिधित्व बढ़ाया गया। इसमें आदिवासियों का प्रतिनिधित्व भी शामिल है। मुझे लगता है कि यह एक आवश्यक कदम था जिसे कांग्रेस और राज्य सरकार ने आगे बढ़ाया है।

ये भी पढ़ें:  शीतकालीन सत्र से पहले सरकार ने बुलाई सर्वदलीय बैठक

सचिन पायलट ने पार्टी हाईकमान का आभार जताते हुए कहा कि कांग्रेस सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के नेतृत्व में काम कर रही है। भाजपा के कुकर्मों को लोगों के सामने लाने के लिए पार्टी कार्यकर्ताओं को मिलकर काम करना होगा। पार्टी में कोई गुटबाजी नहीं है।

राजस्थान में फिर सरकार बनाएंगे: गहलोत

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने रविवार को कहा कि उनकी सरकार ने राज्य को विकास के पथ पर आगे बढ़ाया है और 2023 के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस एक बार फिर सरकार बनायेगी।

राज्य मंत्रिपरिषद में 15 नए मंत्रियों के शपथ ग्रहण से पहले गहलोत ने ट्वीट किया, आज राजस्थान सरकार के मंत्री के रूप में शपथ लेने वाले सभी विधायकों को शुभकामनाएं।’

उन्होंने लिखा, “पिछले 35 महीने में हमारी सरकार ने प्रदेश को संवेदनशील, पारदर्शी एवं जवाबदेह सुशासन देने का कार्य किया है। तमाम विपरीत परिस्थितियों के बावजूद हमारी सरकार ने प्रदेश को विकास के पथ पर आगे बढ़ाया है।”

गहलोत के अनुसार-हमारे कार्यकाल में हुए विधानसभा उपचुनावों एवं स्थानीय निकायों के चुनाव में कांग्रेस पार्टी को जीत दिलाकर जनता ने हमारी सरकार के सुशासन पर मुहर लगाई है। हम सभी को आने वाले समय में भी जनता के इस विश्वास को बनाए रखना है । इसके लिए पूरी मेहनत एवं समर्पण के साथ कार्य जारी रखना है।

ये भी पढ़ें:  भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर की अखिलेश से मुलाकात, बदल सकते हैं प्रदेश के चुनावी समीकरण

मुख्यमंत्री ने लिखा, ”हम सब एकजुटता के साथ कांग्रेस अध्यक्षा सोनिया गांधी एवं राहुल गांधी जी नेतृत्व में कांग्रेस की नीति, विचारधारा एवं कार्यक्रम को आम जनता तक लेकर जाएंगे एवं विकास के एजेंडे पर एक बार फिर 2023 के विधानसभा चुनाव को जीतकर पुन: राजस्थान में सरकार बनाएंगे।”

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें