दुनिया बड़ी खबर

नेपाल का नया दांव: भारत की अयोध्या को बताया नकली, भगवान राम को बताया नेपाली

नई दिल्ली। भारत के साथ नए सीमा विवाद को जन्म देने वाले नेपाल ने अब नया दांव चला है। नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली ने कहा कि भगवान श्रीराम की जन्म स्थली अयोध्या भारत के उत्तर प्रदेश में नहीं बल्कि नेपाल के बाल्मिकी आश्रम के पास है। उन्होंने यह भी दावा किया कि भगवान् राम मूलतः नेपाल के थे।

बाल्मिकी रामायण का नेपाली अनुवाद करने वाले नेपाल के आदिकवि भानुभक्त की जन्म जयन्ती के अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में बोलते हुए नेपाल के प्रधानमंत्री ने दावा किया कि हमलोग आज तक इस भ्रम में हैं कि सीता का विवाह जिस राम से हुआ है वह भारतीय हैं, लेकिन वह भारतीय नहीं बल्कि नेपाली ही हैं।

गौरतलब है कि अभी हाल ही में नेपाल की संसद में विवादित नक़्शे को लेकर संविधान में संशोधन का एक प्रस्ताव पास किया गया था। नेपाल के इस नए विवादित मानचित्र में उत्तराखण्ड के कुछ इलाको को नेपाल का बताया गया है।

वहीँ हाल ही में नेपाल में चीन की राजदूत के साथ संबधो को लेकर नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली विवादों के घेरे में आ गए थे। चीन के राजदूत के साथ उनकी बढ़ती नजदीकियों को लेकर उनके इस्तीफे तक की मांग उठने लगी थी।

इस मामले में पुष्‍प कमल दहल प्रचंड, झालानाथ खनल समेत नेपाल कम्‍युनिस्‍ट पार्टी के 44 में से 30 सदस्‍यों ने 30 जून को ओली को पीएम पद और पार्टी अध्‍यक्ष के पद से इस्‍तीफा देने के लिए भी कहा था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें