बड़ी खबर राजनीति राजस्थान राज्य

विधायक दल की बैठक में शामिल नहीं हुए पायलट, बातचीत जारी

  • अशोक गहलोत के करीबियों के यहाँ आयकर के छापे
  • कांग्रेस ने पायलट को दिया संदेश
  • गहलोत सरकार को कोई खतरा नहीं

जयपुर। राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच पैदा हुए विवाद के बाद आज बुलाई गई कांग्रेस विधायक दल की बैठक में सचिन पायलट और उनके समर्थक विधायक नदारद रहे। हालांकि कांग्रेस ने व्हिप जारी कर सभी विधायकों को इस बैठक में उपस्थित रहने का निर्देश दिया था।

वहीँ सूत्रों की माने तो 109 विधायकों ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को समर्थन पत्र सौंपा है। इसमें कहा गया है कि वे अशोक गहलोत के नेतृत्व वाली सरकार का समर्थन करते हैं।

इस बीच कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा है कि सचिन पायल के लिए पार्टी हाईकमान के दरवाजे हमेशा खुले हुए हैं। सुरजेवाला ने कहा कि पिछले 72 घंटो के अंदर उनकी सचिन पायलट से बात हुई है।

सुरजेवाला ने कहा कि कभी-कभी वैचारिक मतभेद उत्पन्न होता है, लेकिन इससे अपनी ही सरकार को कमजोर करना ठीक नहीं हैं। अगर कोई मतभेद है तो सोनिया गांधी और राहुल गांधी की अगुवाई में हम इसका समाधान निकालेंगे। व्यक्तिगत प्रतिस्पर्धा के जरिए सरकार को कमजोर करना ठीक नहीं।

गहलोत के करीबियों के यहाँ इंकमटैक्स की छापेमारी:

वहीँ कांग्रेस विधायक दल की बैठक समाप्त होते ही मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबियों के यहाँ आयकर विभाग की छापेमारी शुरू हुई है। आयकर विभाग ने आज दिल्ली से जयपुर तक मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के करीबियों धर्मेंद्र राठौड़ और राजीव अरोड़ा के यहाँ छापेमारी की है। कई जगह छापेमारी का सिलसिला अभी भी जारी है।

कांग्रेस ने पायलट को भेजा संदेश:

दूसरी तरफ इस बीच कांग्रेस ने आखिरी बार सचिन पायलट से अपील की है कि वो बैठक में शामिल हों और यहां आकर मतभेदों का समाधान करें लेकिन सचिन पायलट ने कहा है कि वो अभी जयपुर नहीं आएंगे।

इंकमटेक्स की छापेमारी को लेकर कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा है कि ‘भाजपा का दूसरा अंग्रिम संगठन भी मैदान में आया, ई.डी भी जयपुर आ ही गई, जैसा कहा था। अब CBI कब आएगी।’

फिलहाल यह माना जा रहा है कि पायलट आज शाम तक अपना फैसला ले सकते हैं। संभावना है कि वे दिल्ली में कांग्रेस नेताओं से मुलाकात कर विवाद को सुलझाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाएं। वहीँ दूसरी तरफ कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में सूत्रों के हवाले से दावा किया जा रहा है कि पायलट बीजेपी में शामिल हो सकते हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें