बड़ी खबर राजनीति

रक्षा मंत्रालय के दस्तावेजों में खुलासा चीन ने की थी घुसपैठ, राहुल ने पीएम को घेरा

नई दिल्ली। भारतीय सीमा में चीन सैनिको की घुसपैठ को लेकर जहाँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार इससे इंकार करते रहे हैं वहीँ अब रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट पर अपलोड की गई जानकारी बता रही है कि मई में चीनी सैनिको ने घुसपैठ की थी।

रक्षा मंत्रालय की साइट पर अपलोड किए गए नए दस्तावेज में लिखा है, ‘चीनी पक्ष ने 17-18 मई को कुंगरांग नाला (पेट्रोलिंग प्वॉइंट 15 के पास, हॉट स्प्रिंग्स के उत्तर में), गोगरा (पीपी -17 ए) और पैंगोंग त्सो के उत्तरी किनारे के क्षेत्रों में अतिक्रमण किया। 5 मई के बाद से गलवान घाटी में तनाव बढ़ा है।’

रक्षा मंत्रालय के दस्तावेजों में दी गई जानकारी के मुताबिक ‘5 मई के बाद से एलएसी के साथ और गलवान घाटी में चीनी आक्रामक रुख अख्तियार किए हुए है। 17-18 मई को कुंगरांग नाला, गोगरा और पैंगोंग त्सो के क्षेत्रों में चीनी सेना ने अतिक्रमण किया।’ चीनी सैनिको की घुसपैठ के लिए रक्षा मंत्रालय ने अतिक्रमण शब्द का इस्तेमाल किया है।

दस्तावेज में साफ़ तौर पर लिखा है कि एलएसी (वास्तविक नियंत्रण रेखा) पर तनाव कम करने के लिए 6 जून को दोनों देशों के बीच कॉर्प्स कमांडर स्तर की बातचीत हुई थी। इस बातचीत के बाद भी 15 जून को गलवान घाटी में दोनों देशों के सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हुई, जिसमें दोनों देशों के कई सैनिक शहीद और घायल हो गए थे।

रक्षा मंत्रालय के दस्तावेज के मुताबिक, चीन द्वारा एकतरफा आक्रामकता से पैदा हुई पूर्वी लद्दाख में स्थिति संवेदनशील बनी हुई है और स्थिति पर करीबी निगरानी और त्वरित कार्रवाई की आवश्यकता है।

पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने रक्षा मंत्रालय की वेबसाइट पर अपलोड किये गए दस्तावेजों का हवाला देते हुए पीएम नरेंद्र मोदी पर निशाना साधा है। उन्होंने चीनी सैनिकों ने मई में पूर्वी लद्दाख में भारतीय क्षेत्र में घुसपैठ की थी हेडलाइन वाली एक मीडिया रिपोर्ट को ट्वीट कर लिखा कि ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी झूठ क्यों बोल रहे हैं?’

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें