देश बड़ी खबर

पढ़िए, राहुल गांधी का नोबेल विजेता प्रो मोहम्मद यूनुस से संवाद

नई दिल्ली। कोरोना महामारी के कारण दुनियाभर के कई देशो की अर्थव्यवस्था पटरी से उतर चुकी है और कई देश इससे उबरने की कोशिश कर रहे हैं। कोरोना महामारी के बीच पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष कई मुद्दों पर विशेषज्ञों से बातचीत करते रहे हैं। इसी क्रम में उन्होंने नोबेल विजेता प्रोफेसर मोहम्मद यूनुस से बातचीत की। प्रोफेसर यूनुस की बांग्लादेश में गरीबो के उत्थान में बड़ी भूमिका रही है। उन्हें नोबेल शान्ति पुरुस्कार से भी सम्मानित किया जा चूका है।

इसी कड़ी में शुक्रवार को  उन्होंने बांग्लादेश के प्रख्यात अर्थशास्त्री और बांग्लादेश ग्रामीण बैंक के संस्थापक मुहम्मद यूनुस से बात की। राहुल ने कोरोना संकट के कारण अर्थव्यवस्था, बैंकिंग क्षेत्र और आम लोगों के जीवन के असर पर चर्चा की।

बातचीत के दौरान राहुल गांधी ने कहा कि आप गरीबों की अर्थव्यवस्था को जानते हैं, कोरोना संकट कैसे लोगों को नुकसान पहुंचा रहा है? इसपर मोहम्मद युनूस ने कहा कि मैं पहले से बात कर रहा हूं कोरोना संकट ने समाज की कुरीतियों को उजागर किया है। गरीब, प्रवासी मजदूर हम सबके बीच हैं लेकिन कोरोना संकट ने इन्हें सभी के सामने ला दिया है। इन्हें अनौपचारिक क्षेत्र का हिस्सा माना जाता है, जो अर्थव्यवस्था का हिस्सा नहीं हैं। यदि हम उनकी मदद करें तो पूरी अर्थव्यवस्था को आगे ले जाया जा सकता है। मगर हम ऐसा नहीं करते हैं।

राहुल ने युनूस से पूछा कि भारत और बांग्लादेश जैसे देशों के लिए छोटे कारोबारी ही भविष्य हैं लेकिन सिस्टम इसे नहीं देख रहा है तो उन्होंने कहा कि हम आर्थिक मामले में पश्चिमी देशों की तरह चलते हैं। इसी वजह से उनकी तरफ ध्यान नहीं दिया जा रहा है। छोटे मजदूरों और कारोबारियों के पास काफी टैलेंट है लेकिन सरकार उन्हें अर्थव्यवस्था का हिस्सा नहीं मानती है। पश्चिम में गांव के लोगों को शहर में नौकरी के लिए भेजा जाता है। अब भारत में भी यही हो रहा है। पहले शहर के पास ढांचा था गांव के पास नहीं लेकिन आज सभी तरह की तकनीक है तो फिर क्यों लोगों को शहर भेजा जा रहा है।

कांग्रेस नेता ने नोबेल विजेता से कहा कि हमने पश्चिम से काफी कुछ लिया लेकिन गांवों को ताकतवर बनाना भारत और बांग्लादेश का ही मॉडल है। महात्मा गांधी ने कहा था कि हमें अपनी ग्रामीण अर्थव्यवस्था को आगे बढ़ाना होगा। इसपर युनूस ने कहा कि कोरोना संकट ने आर्थिक मशीन को रोक दिया है। लोग सोच रहे हैं कि जल्द ही पहले जैसी स्थिति हो जाए। पर ऐसी जल्दी क्या है। यदि ऐसा होता है तो बहुत बुरा होगा। हमें उस दुनिया में क्यों वापस जाना है जहां ग्लोबल वार्मिंग और बाकी तरह की परेशानी है। ये हानिकारक होगा। कोरोना ने आपको कुछ नया करने का मौका दिया है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें