बड़ी खबर राजनीति

सचिन पायलट ने कहा “मैं बीजेपी में नहीं जाऊंगा”: करीबी सूत्र

नई दिल्ली। राजस्थान में मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के बीच पैदा हुई तकरार के बाद आज जहाँ मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने सौ से अधिक विधायकों की परेड कराकर यह साबित कर दिया कि उनकी सरकार को कोई खतरा नहीं हैं। वहीँ सचिन पायलट ने बीजेपी में जाने की सभी आशंकाओं को खारिज कर दिया है।

न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक सचिन पायलट के बेहद करीबी सूत्रों ने कहा कि वे बीजेपी में नहीं जायेंगे। इससे पहले कल पायलट ने एक न्यूज़ चैनल से बातचीत में भी इस बात से इंकार कर दिया कि वे बीजेपी में शामिल होने वाले हैं।

न्यूज़ चैनल से बातचीत में पायलट ने साफ़ शब्दों में कहा था कि उनका बीजेपी में जाने का कोई इरादा नहीं हैं। वहीँ आज राजस्थान के कैबिनेट मंत्री रमेश मीणा ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई से कहा कि वे उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट के साथ हैं।

अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच पैदा हुए विवाद से पार्टी की हो रही किरकिरी को देखते हुए कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने दोनों नेताओं के बीच मध्यस्थता करने की कमान अपने हाथ में ली है।

इस बीच खबर है कि सचिन पायलट ने प्रियंका गांधी से बातचीत में कुछ मांगो का ज़िक्र किया है। उन्होंने गृह और वित्त मंत्रालय के अलावा अपने तीन समर्थक विधायकों को मंत्री पद दिए जाने की बात कही है। सूत्रों की माने तो प्रियंका गांधी ने मुख्यमंत्री अशोक गहलोत को सचिन पायलट से हुई बातचीत से अवगत करा दिया है।

इतना ही नहीं सचिन पायलट से पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, अहमद पटेल, के सी वेणुगोपाल और गुलाम नबी आज़ाद ने भी फोन पर बातचीत कर मामले को सुलझाने की कोशिश की है और संभावना है कि देर शाम तक सचिन पायलट वापस पार्टी की मुख्यधारा में वापस आ जाएँ।

वहीँ दूसरी तरफ विधायक दल की बैठक में जुटे सौ से अधिक विधायकों को मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने जयपुर के होटल फेयरमोंट में ठहराया है। पार्टी सूत्रों के मुताबिक बीजेपी की तरफ से किये जा रहे षड्यंत्र को ध्यान में रखकर विधायकों को सुरक्षित स्थान पर रखा गया है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें