बड़ी खबर बिहार-झारखंड राज्य

कांग्रेस में एंट्री की अटकलों के बीच उपचुनाव में पप्पू यादव ने किया कांग्रेस के समर्थन का एलान

पटना ब्यूरो। बिहार में पूर्व सांसद और जनअधिकार पार्टी के अध्यक्ष राजेश रंजन उर्फ़ पप्पू यादव की कांग्रेस में एंट्री की अटकलों को उस समय और अधिक हवा मिली जब उन्होंने बिहार में हो रहे विधानसभा उपचुनाव में कांग्रेस के समर्थन का एलान किया।

एक पत्रकार वार्ता में कांग्रेस उम्मीदवारों के समर्थन का एलान करते हुए पप्पू यादव ने कहा कि हमारी कोर कमेंटी की बैठक में ये पता चला कि कांग्रेस की तरफ से समर्थन की मांग की गई है। हम बिहार के कांग्रेस प्रभारी का धन्यवाद करते हैं। उन्होंने कहा कि कुशेश्वर स्थान में वो और उनके कार्यकर्ता जी जान से लड़ेंगे और कांग्रेस के लिए वोट मांगेंगे। इतना ही नहीं पप्पू यादव ने कहा कि उपचुनाव वाली सीटों पर कैंप भी करेंगे।

पप्पू यादव ने पत्रकार वार्ता में कहा कि बिहार और देश की जो वर्तमान स्थिति है कांग्रेस उससे बेहतर लड़ाई लड़ रही है। यूपी और बॉर्डर इलाके में भी कांग्रेस काफी मेहनत कर रही है। इसलिए देश हित और बिहार की स्थिति को देखते, कांग्रेस ने जो गम्भीरता दिखाई है उसमें जाप 100 प्रतिशत सहयोग देगा।

ये भी पढ़ें:  किसान आंदोलन का एक साल: विपक्ष ने सरकार को ठहराया ज़िम्मेदार

कश्मीर में बिहार के लोगों की हत्या पर सवाल उठाते हुए पप्पू यादव ने केंद्र की नरेंद्र मोदी और बिहार के जेडीयू-बीजेपी सरकार पर हमला बोला। उन्होंने कहा कि कश्मीर मामले में केन्द्र और राज्य सरकार दोनों चुप हैं। बिहार के लोगों की अब दूसरे प्रदेशों से लाश आ रही है। कश्मीर में बिहार के जो लोग फंसे हैं उन्हें देखने वाला कोई नहीं है।

पप्पू यादव ने कहा कि हम मांग करते हैं कि कश्मीर में फंसे बिहार के लोगों को सकुशल वापस लाया जाया। इसके लिए वो पैसे देने के लिए भी तैयार हैं। उन्होंने कहा कि बिहार के लोगों को देश भर में गाली और अपमान मिलता है। महाराष्ट में हम पीटे जाते हैं। दिल्ली, मिजोरम जैसे राज्यों में भी हमारे साथ भेदभाव होता है लेकिन सरकार चुप रहती है।

गौरतलब है कि हाल ही में जेएसयू छात्रसंघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार के भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी छोड़कर कांग्रेस में आने के बाद से पप्पू यादव के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें लगाई जा रही हैं। पप्पू यादव दो बार के सांसद हैं और उन्होंने कोरोना काल और बिहार में आई बाढ़ के दौरान बड़े स्तर पर ज़मीं पर उतर कर काम किया था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें