मध्यप्रदेश राज्य

पांढुरना दिनभर: पढ़िए, दिनभर की अहम ख़बरें

 

शिराफा ने माँ चंडिका का नाम अंकित करने की मांग का ज्ञापन सौपा

पांढुर्ना (गुड़डू कावले)। शहर के राष्ट्रीय राजमार्ग पर बने नवनिर्मित स्वागत द्वार पर पर “माँ चंडिका नगरी पांढुरना में आपका हार्दिक स्वागत है” नाम अंकित करने की मांग को लेकर शिवाजी राजे फाउंडेशन नव शहर की नगर पालिका परिषद में पहुंचकर मुख्य नगरपालिका अधिकारी आरके ईवनाती को ज्ञापन सौंपा।

वहीँ शहर में अब धीरे धीरे अन्य सामाजिक धार्मिक संगठनों की मांग बढ़ने लगी है और सभी अपने अपने स्तर पर अलग अलग नाम अंकित करने की बात कर रहे है।

गौरतलब है कि शहर में ऐसे कई सामाजिक एवं धार्मिक संगठन है, जो इस नवनिर्मित स्वागत द्वार अपनी संस्था का नाम अंकित करने की मांग करने का मन बना रहे है।

इस संबंध में मुख्य नगरपालिका अधिकारी ने बताया कि नगरपालिका अधिनियम के मुताबिक शहर के मार्गो पर स्वागतद्वार पर धार्मिक, राजनीतिक, सामाजिक स्तर पर किसी का नाम अंकित नहीं किया जा सकता है।

उन्होंने कहा कि बाहरी प्रवासियों के स्वागत और शहर की सुंदरता के उद्देश्य से नपा परिषद के माध्यम से इस तरह का कार्य करना शासन के नगर पालिका अधिनियम के नियमों के मुताबिक ही अंकित होता है। ज्ञापन सौपने हरीश गायधने, नरेंद तहकित, राहुल पवार, हर्षद घाटोडे, निहिल साबारे, तुषार हिवसे आदि सदस्य उपस्थित थे।

ग्राम वाड़ेगाव की महिलाओं ने सचिव पर पंचायत से भगाने का जड़ा आरोप

पांढुर्ना (गुड़डू कावले)। बीपीएल कार्ड बनवाने पहुंची महिलाओं को सरपंच द्वारा डांट कर भगाये जाने का मामला प्रकाश में आया है। इस मामले को लेकर मंगलवार को शहर के एसडीएम कार्यालय पहुंची ग्राम वाडेगाव गांव की महिलाओं ने एक ज्ञापन दिया।

महिलाओं ने कहा कि हम सभी महिलाएं ग्राम वाडेगाव पंचायत की निवासी है। हम लोग गरीबी रेखा का राशन कार्ड बनाने को लेकर ग्राम पंचायत गये थे। जहाँ उपस्थित सरपंच और सचिव ने हम लोगो की बात सुने बिना ही यह कह कर भगा दिया कि ‘यह राशन कार्ड नहीं बनता, तहसील कार्यालय जाओ।’ इतना ही नहीं पीड़ित महिलाओं ने कहा कि सरपंच ने उनसे कहां कि दोबारा ग्राम पंचायत में मत आना।

महिलाओं ने कहा कि हम लोग खेती बाड़ी में मेहनत मजदूरी से कार्य करते हैं। हम लोगों के पास कृषि भूमि भी नहीं है, गरीबी रेखा का राशन कार्ड भी नहीं है। ऐसी स्थिति में शासन की जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ पाने से हम लोग और हमारा परिवार वंचित हो रहा है। राशन कार्ड नहीं होने से परिवार का भरण पोषण करने में बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। महिलाओं ने प्रशासन से त्वरित राशन कार्ड बनाने की मांग की है।

इस अवसर पर ज्ञापन देने पहुंची महिलाओं में राज किरण,कुरवाडे शीला सेमबेकर, वंदना कुरवाडे, मन्द राजगुरु, रंजना कुरवाडे, पारबती कुरवाडे,ललिता वाडबुदे,भागी बनकर,मीरा वाघाड़े,सुभद्रा वाडबुदे और कमला कुरवाडे वड़ेगाव शामिल हैं।

शोकाकुल वाटूलकर परिवार से मिले विधायक, हर संभव मदद का दिया भरोसा

पांढुर्ना (गुडडू कावले)। विगत दिनों शहर के जलाराम वार्ड निवासी अनिल वाटूलकर की ह्रदय गति रुकने से निधन हुआ था। जिसके शोकाकुल परिवार से मिलने मंगलवार की दोपहर क्षेत्रीय विधायक नीलेश उइके उनकेेे निवास पहुंचे। उन्होंने स्वर्गीय अनिल वाटूलकर उसकी फोटो पर फूल माला अर्पित कर श्रद्धांजलि दी और परिवार को सात्वना दी साथ ही।

कांग्रेस के पूर्व पार्षद रुन्देश जसुत्तकर के पिता वरिष्ठ कांग्रेसी के नेता स्व. कृष्णराव जसुतकर के निवास पहुच कर श्रंद्धाजलि दी और परिवार को सात्वना देकर हर असंभव मदद करने का भरोसा दिलाया। इस अवसर पर बापू बालपांडे देवकांत मांडोगड़े मनोज सातपुते अरुण धुर्वे उपस्थित थे

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें