बड़ी खबर मनोरंजन

नागरिकता कानून पर बोले नसीरुद्दीन शाह ‘सरकार कर रही मजबूर लेकिन डरें नहीं मुसलमान’

नई दिल्ली। नागरिकता कानून को लेकर मशहूर अभिनेता नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि सरकार लोगों को नागरिकता साबित करने के लिए मजबूर कर रही है लेकिन मुसलमान डरें नहीं।

शाह ने कहा कि पासपोर्ट, वोटर आईडी कार्ड और आधार कार्ड जैसे सरकारी दस्तावेज को ही प्रमाण मानने से मना किया जा रहा है। ये दस्तावेज क्या नागरिकता का प्रमाण नहीं हैं?

नसीरुद्दीन शाह ने कहा कि मेरे पास बर्थ सर्टिफिकेट नहीं है और अब मैं इसे बनवा भी नहीं सकता। ये न होने के वजह से क्या हम सभी को बाहर कर देंगे। भारत में 70 साल रहने के बाद मैं खुद को भारतीय साबित नहीं कर पाया तो पता नहीं क्या होगा।

गौरतलब है कि देश में असहिष्णुता के माहौल को लेकर नसीरुद्दीन शाह पहले भी आवाज़ उठा चुके हैं। उन्होंने कहा था कि देश के बड़े कलाकार राजनीतिक मामलों पर बोलने से कलाकार डरते हैं। उन्होंने यह भी कहा कि एक अभिनेता के राजनीतिक दर्शन को उनके द्वारा चुनी गई फिल्मों से पहचाना जा सकता है।

नसीरुद्दीन शाह का बयान उस समय आया है जब देशभर में नागरिकता कानून के खिलाफ विरोध प्रदर्शनों का दौर जारी है। दिल्ली के शाहीन बाग़, जामिया और लखनऊ के घंटाघर के अलावा पटना के सब्ज़ी बाज़ार, मुंबई सहित कई स्थानों पर अनिश्चितकालीन धरने चल रहे हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
Support us to keep Lokbharat Live, Give a small Contribution of Rs.100 to Support Fearless & Fair Journalism
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें