अपराध बड़ी खबर

अर्नब पर लगी हैं ये संगीन धाराएं, कई साल के कारावास और जुर्माने का है प्रावधान

नई दिल्ली। रिपब्लिक टीवी पर पालघर मामले में लाइव डिबेट के दौरान कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी का नाम बेवजह घसीटने और अपमानजनक भाषा का इस्तेमाल करने वाले अर्नब गोस्वामी के खिलाफ देशभर में करीब 130 जगह मामले दर्ज हुए हैं।

इतनी जगह मामले दर्ज होने के बाद खुद पर गिरफ्तारी की तलवार लटकी देख अर्नब गोस्वामी ने पिछले दिनों सुप्रीमकोर्ट का दरवाजा खटखटाया था लेकिन उसे अंतरिम ज़मानत की अर्ज़ी दाखिल करने के लिए मामूली राहत के तौर पर तीन सप्ताह का समय मिला है।

कानून के जानकारों की माने तो अर्नब को सिर्फ अंतरिम ज़मानत की अर्ज़ी दायर करने के लिए समय दिया गया है। उनकी अर्जी पर कोर्ट उन्हें अग्रिम ज़मानत देता है या नहीं ये कोर्ट के रुख पर निर्भर करेगा।

जानकारों ने कहा कि सुप्रीमकोर्ट ने अर्नब को तीन सप्ताह का समय दिए जाने के साथ ही यह भी कहा है कि अर्नब के खिलाफ देशभर में हुई सभी एफआईआर को एक जगह लाना होगा।

वहीँ महाराष्ट्र पुलिस ने अर्नब के खिलाफ जो धाराएं लगायी हैं वे इतनी सख्त हैं कि बिना जेल जाए छुटकारा मिलना संभव नहीं हैं। मुंबई पुलिस ने अर्नब गोस्वामी के खिलाफ 11 धाराएं लगाई हैं। इनमे 110 (सामान्य जन या दस से अधिक व्यक्तियों द्वारा अपराध किए जाने का दुष्प्रेरण), 120B (आपराधिक षड्यंत्र रचने), 153A (दो समुदायों के बीच नफरत पैदा करने), 153B (राष्ट्रीय अखंडता पर प्रतिकूल प्रभाव डालने वाले इल्जाम), 295A (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के लिए जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण किया गया कृत्य), 298 (धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के सविचार आशय से शब्द उच्चारित करना), 500 (मानहानि के लिए दण्ड), 504 ( शांति भंग भड़काने के इरादे से जानबूझकर अपमान), 505(2) (विभिन्न समुदायों के बीच शत्रुता, घॄणा या वैमनस्य की भावनाएं पैदा करने के आशय से झूठे बयान आदि फैलाना. शत्रुता, घॄणा या वैमनस्य की भावनाएं पैदा करने के आशय से पूजा के स्थान आदि में झूठे बयान या भाषण आदि देना), 506 (आपराधिक धमकी) आदि शामिल हैं।

इनमे कई धाराएं गैर ज़मानती हैं और साथ ही गुनाह साबित होने के बाद करवास और जुर्माने की सजा है या करवास और जुर्माना दोनों हो सकते हैं।

वहीँ अहम बात है कि अर्नब गोस्वामी और रिपब्लिक टीवी के पास पालघर मामले में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी से जुड़ा कोई सबूत नहीं है जबकि अर्नब ने सोनिया गांधी को लेकर जो कुछ कहा वह पूरे देश ने देखा, उसका वीडियो फुटेज मौजूद है, जिससे अर्नब गोस्वामी इंकार नहीं कर सकता।

गौरतलब है कि मुंबई पुलिस ने अभी हाल में अर्नब गोस्वामी को दो नोटिस भेजकर पूछ्ताछ के लिए तलब किया था। सोमवार को पूछताछ के लिए पेश हुए अर्नब गोस्वामी से मुंबई पुलिस ने कई घंटे तक लंबी पूछताछ की थी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
Support us to keep Lokbharat Live, Give a small Contribution of Rs.100 to Support Fearless & Fair Journalism
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें