अपराध बड़ी खबर

मुख़्तार अंसारी की पत्नी ने लिखा पत्र, पंजाब से यूपी ट्रांसफर के दौरान है जान का खतरा

नई दिल्ली। बाहुबली मुख़्तार अंसारी को यूपी में शिफ्ट करने के लिए सुप्रीमकोर्ट द्वारा पंजाब सरकार को दो सप्ताह का समय तय किये जाने के बाद मुख्तार अंसारी को यूपी शिफ्ट करने की तैयारियां चल रही हैं।

वहीँ इस बीच मुख्तार अंसारी की पत्नी अफ्शां अंसारी ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को एक पत्र लिखकर अपने पति मुख्तार अंसारी की सुरक्षा को लेकर चिंता जताई है। पत्र में कहा गया है कि स्पेशल कोर्ट एम०पी०- एम०एल-ए, इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश में विचाराधीन मुकदमा सेशन ट्रायल नम्बर-304/ 2009 धारा 302/307 IPC तथा सेशन ट्रायल मुकदमा नमबर-125/ 2007 धारा 307 IPC मे प्रार्थनी के पति मुख्तार अंसारी अभियोजन पक्ष से घटना के चश्मदीद घायल गवाह हैं और मुकदमे के मुख्य अभियुक्त बूजेश सिंह एमएलसी व त्रिभुवन सिंह आदि जो सत्ताधारी पार्टी के सदस्य है, ये लोग मुकदमें में गवाही न करने के लिए सरकारी तंत्र की मिली भगत से लगातार धमकी दे रहे हैं। इससे इस मामले गवाह मुख़्तार अंसारी के जीवन को गंभीर संकट उत्पन्न हो गया है। उन्होंने लिखा कि मुख्तार अंसारी की सुरक्षा की ज़िम्मेदारी सुनिश्चित करके ही उन्हें उत्तर प्रदेश जेल ट्रांसफर किया जाए।

ये भी पढ़ें:  लालू यादव की ज़मानत अर्ज़ी पर 16 अप्रेल को होगी सुनवाई

गौरतलब है कि मुख्तार के परिवारवाले पहले आशंका जता चुके हैं कि यूपी में मुख्तार को जान को खतरा है। दरअसल यूपी जेल के अंदर मुख्तार के करीबी मुन्ना बजरंग की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी।

वहीँ मुख़्तार अंसारी के भाई अफजाल अंसारी ने एक न्यूज़ चैनल से बात करते हुए कहा कि लोग पूछ रहे हैं कि मौका मिल गया है, अब गाड़ी पलट जाएगी। उन्होंने कहा कि उनके भाई मुख्तार का ट्रायल होगा और वह बेदाग रिया होगा। अफजाल ने कहा कि कुछ लोग कह रहे हैं कि यह मुख्तार अंसारी का डेथ वारंट है। उसके दुश्मन सोच रहे हैं कि मौका मिले और अंसारी का काम तमाम कर दिया जाए।

हालांकि पंजाब से यूपी शिफ्ट किये जाने के बाद मुख्तार अंसारी को उत्तर प्रदेश के बांदा जेल में तब तक रखा जाना है। अदालत ने मुख्तार अंसारी को दो सप्ताह में यूपी शिफ्ट करने के अपने आदेश में कहा कि मुख्तार को पहले यूपी की बांदा जेल में तब तक रखा जाए, जब तक विशेष कोर्ट ये तय न कर ले की उसे किस जेल में रखना है।

मुख़्तार अंसारी इस समय पंजाब के रोपड़ जेल में बंद है। मुख़्तार अंसारी की कस्टडी के लिए यूपी सरकार ने सुप्रीमकोर्ट में याचिका दायर की थी। सुप्रीमकोर्ट ने इस याचिका पर सुनवाई के बाद पंजाब सरकार को आदेश जारी किया कि वह दो सप्ताह में मुख़्तार अंसारी को यूपी शिफ्ट करे।

ये भी पढ़ें:  बीजेपी को मतदाताओं के आधार से जुड़े मोबाईल नंबर कैसे मिले? जांच के आदेश

बुधवार को मुख़्तार अंसारी को मोहाली अदालत में पेश किया गया था। अदालत में पेशी के दौरान मुख्तार अंसारी बेसुध दिखे। उन्हें व्हील चेयर पर अदालत लाया गया था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें