बड़ी खबर बिहार-झारखंड राज्य

चुनाव से पहले बदल रहे समीकरण: लवली आनंद राजद में शामिल

पटना ब्यूरो। बिहार में विधानसभा चुनावो के एलान के साथ ही राज्य के राजनैतिक समीकरण तेजी से बदल रहे हैं। बदलते समीकरणों के बीच बाहुबली नेता आनंद मोहन सिंह की पत्नी लवली आनंद और पुत्र चेतन आनंद राष्ट्रीय जनता दल में शामिल हो गए हैं।

लवली आनंद ने लोकसभा चुनाव में नीतीश कुमार की पार्टी जनता दल यूनाइटेड के लिए प्रचार किया था। 2014 के आम चुनाव से पहले लवली आनंद कांग्रेस में थीं, लेकिन कांग्रेस से टिकट नहीं मिलने पर कांग्रेस छोड़ समाजवादी पार्टी (सपा) के टिकट पर चुनाव लड़ीं, जिसमें उनकी हार हो गईं और वे चौथे स्थान पर रही थीं।

सोमवार को लवली आनंद और उनके पुत्र चेतन आनंद को राजद नेता तेजस्वी यादव ने पार्टी की सदस्यता ग्रहण कराई। इस अवसर राष्ट्रीय जनता दल के प्रदेश अध्यक्ष जगदानंद सिं भी मौजूद थे। बाद में लवली आनंद पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी से मिलने उनके आवास पहुंची।

राष्ट्रीय जनता दल की सदस्यता ग्रहण करने के बाद लवली आनंद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर निशाना साधा। उन्होंने प्रदेश में बढ़ते अपराधों पर भी चिंता जताई।

ये भी पढ़ें:  हैदराबाद निकाय चुनाव में जान फूंक रही बीजेपी- नड्डा, शाह, योगी सहित बड़े नेता करेंगे प्रचार

लवली आनंद ने जनता दल यूनाइटेड पर धोखा देने का आरोप भी लगाया। उन्होंने कहा कि वे आरजेडी के साथ खड़ी हैं, तेजस्वी यादव उन्हें जो जिम्मेदारी सौंपेंगे, उसे निभाने के लिए वे तैयार हैं।

कौन हैं लवली आनंद:

लवली आनंद बिहार के बाहुबली नेता आनंद मोहन सिंह की पत्नी हैं। आनंद मोहन सिंह ने बिहार पीपुल्स पार्टी बनाई थी। लवली आनंद ने अपने पति की पार्टी से ही अपने राजनैतिक कैरियर की शुरआत की थी। इससे पहले लवली आनंद ने 1994 के उपचुनाव में वैशाली संसदीय सीट से चुनाव लड़ा था और इस चुनाव में उन्होंने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री सत्येंद्र नारायण सिंह की पत्नी किशोरी सिन्हा को पराजित किया था।

लवली आनंद के पति आनंद मोहन सिंह हत्या के एक मामले में उम्र कैद की सजा होने के बाद से जेल में सजा काट रहे हैं। आनंद मोहन सिंह की बिहार के कुछ इलाको में आज भी तूती बोलती है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें