बड़ी खबर मनोरंजन

लाउडस्पीकर पर न हो अज़ान, जावेद अख्तर ने नई बहस को दिया जन्म

मुंबई। देश के मशहूर गीतकार और प्रख्यात शायर जावेद अख्तर ने लाउडस्पीकर पर अजान दिए जाने का मामला उठाकर एकबार फिर देश में नई बहस को जन्म दे दिया है। उन्होंने ट्विटर पर कहा कि लाउडस्पीकर पर अज़ान होने से लोगों को परेशानी होती है इसलिए लाउडस्पीकर पर अजान नहीं देना चाहिए।

जावेद अख्तर ने एक ट्वीट में लिखा, ‘पचासियों साल तक लाउडस्पीकर पर अज़़ान देना हराम रहा, लेकिन अब जब हलाल हुई है तो खत्म ही नहीं हो रही। उम्मीद है कि लोगों को दूसरों को हो रही परेशानी को समझते हुए लाउडस्पीकर पर अजान देना खुद ही बंद कर देना चाहिए।”

गौरतलब है कि जावेद अख्तर से पहले पार्श्व गायक सोनू निगम भी लाउडस्पीकर पर अज़ान होने का मुद्दा उठा चुके हैं। इसके बाद वे ट्विटर पर ट्रोलर्स के निशाने थे।

इससे पहले जावेद अख्तर ने लॉकडाउन में शराब की दुकाने खोले जाने के सरकार के फैसले पर कड़ी प्रतिक्रिया व्यक्त की थी। उन्होंने ट्विटर पर इस मामले में विरोध जताते हुए लिखा था कि लॉकडाउन के दौरान शराब की दुकानें खोलना एक विनाशकारी निर्णय है।

इतना ही नहीं जावेद अख्तर ने कहा कि इस समय बहुत से सर्वे हुए हैं, जिनमें पता चला है कि लॉकडाउन में घरेलू हिंसा के मामले कई गुना बढ़ गए हैं। ऐसे में शराब का सेवन बच्चों और महिलाओं के लिए यह वक्त और कठिन बना देगा।

जावेद अख्तर द्वारा लाउडस्पीकर पर अज़ान को लेकर सवाल उठाये जाने के बाद एक बार फिर इस मामले में नई बहस जन्म ले सकती है। हालाँकि यह पहला अवसर नहीं है, जावेद अख्तर ट्रिपल तलाक से लेकर नागरिकता संशोधित कानून पर भी अपनी राय मजबूती से कई मंचो पर रख चुके हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें