बड़ी खबर मनोरंजन

हाईकोर्ट ने कंगना को लगाई फटकार, कहा, “स्टेटमेंट देते समय रखें जुबान पर कंट्रोल”

बेंगलुरु। कर्नाटक उच्च न्यायालय ने फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत को कड़ी फटकार लगाते हुए बयान देने समय ज़ुबान पर काबू रखने की हिदायद दी है। अदालत ने कहा कि सेलेब्स (हस्तियां) को बयान देते समय ज़ुबान पर काबू रखना चाहिये।

किसान आंदोलन को लेकर कंगना रनौत द्वारा आंदोलनकारी किसानो को लेकर की गई टिप्पणी पर हाईकोर्ट ने कंगना रनौत को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि आपको इस तरह की बात कहने का हक किसने दिया। आपने किसानों को आतंकवादी कैसे कहा?

गौरतलब है कि फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत पर किसान आंदोलन को लेकर कथित रूप से आपत्तिजनक ट्वीट्स करने का आरोप है। कंगना रनौत ने पिछले साल 21 सितंबर को कंगना ने किसानों को लेकर एक विवादित ट्वीट किया था। कंगना ने अपने ट्वीट में लिखा था, ‘लोगों ने सीएए के बारे में गलत सूचना और अफवाह फैलाई, जिसके कारण दंगा हुआ और अब वही लोग किसान बिल के बारे में गलत सूचना फैला रहे हैं और देश में आतंक पैदा कर रहे हैं, वे आतंकवादी हैं।’

कंगना के इस ट्वीट के खिलाफ रमेश नाइक नाम के शख्स ने आईपीसी की धारा 156 (3) के तहत शिकायत दर्ज कराई गई थी। उन्होंने कंगना के 21 सितंबर 2020 को किए ट्वीट को लेकर कर्नाटक हाईकोर्ट में मामला दर्ज कराया था।

ये भी पढ़ें:  कोरोना पर दिल्ली में बैठकर लेक्चर न दें जावड़ेकर: संजय राउत

इस मामले में कंगना ने कर्नाटक हाईकोर्ट में एक याचिका दायर कर एफआईआर को रद्द करने की मांग की थी। मगर कर्नाटक हाईकोर्ट ने उन्हें राहत देने से इंकार कर दिया और सुनवाई जारी रखने का आदेश दिया। इस मामले में गुरूवार को हाईकोर्ट में सुनवाई हुई।

मानहानि केस में कंगना को मिली ज़मानत:

कंगना रनौत को मानहानि केस में आज ज़मानत दे दी गई है। आज अंधेरी मजिस्ट्रेट कोर्ट में कंगना के खिलाफ जावेद अख्तर द्वारा दर्ज किए केस पर सुनवाई हुई। इस सुनवाई के बाद कोर्ट ने कंगना को जमानत दे दी। अदालत ने कंगना के खिलाफ जमानती वारंट जारी दिया था। इस फैसले के खिलाफ कंगना ने कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें