कंगना को 25 जनवरी तक गिरफ्तारी से राहत, 22 दिसंबर को मुंबई पुलिस के सामने होना होगा पेश

मुंबई। सोशल मीडिया पर भड़काऊ और अपमानित करने वाली पोस्ट के मामले में कंगना रनौत को 25 जनवरी तक गिरफ्तारी से राहत मिल गई है। मुंबई पुलिस ने सोमवार को बॉम्बे हाईकोर्ट से कहा कि वे अभिनेत्री कंगना रनौत को उनके सोशल मीडिया पोस्ट के मामले में 25 जनवरी, 2022 तक गिरफ्तार नहीं करेगी।

गौरतलब है कि बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ प्राथमिकी एक सिख निकाय के कुछ सदस्यों द्वारा की गई शिकायत के बाद एफआईआर दर्ज की गई थी, जिसमें दावा किया गया था कि रनौत ने अपने इंस्टाग्राम पोस्ट के माध्यम से दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के विरोध को खालिस्तानी आंदोलन के रूप में चित्रित किया है।

कंगना ने अपने ट्वीट में लिखा था कि खालिस्तानी आतंकवादियों ने भले ही आज सरकार की बांह मरोड़ दी। लेकिन यह नहीं भूलना चाहिए कि एक महिला प्रधानमंत्री ने इन्हें कुचला था। चाहे इसकी वजह से देश को कितना ही कष्ट क्यों ना उठाना पड़ा हो।

पुलिस ने तब कंगना पर भारतीय दंड संहिता की धारा 295-ए के तहत समुदाय की धार्मिक भावनाओं को जानबूझकर आहत करने के आरोप में मामला दर्ज किया था।

अपने खिलाफ दर्ज एफआईआर को रद्द कराने के लिए कंगना रनौत ने बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की है। कंगना ने अपनी याचिका में तर्क दिया कि शिकायतकर्ताओं ने 21 नवंबर को किए गए उनके इंस्टाग्राम पोस्ट पर आपत्ति जताई, लेकिन उनके खिलाफ कोई कानूनी मामला नहीं बनता है। याचिका में बॉम्बे हाईकोर्ट से गुहार लगाई गई है कि इस साल नवंबर में मुंबई के खार पुलिस थाने में उनके खिलाफ दर्ज प्राथमिकी रद्द की जाए।

कंगना की याचिका पर न्यायमूर्ति नितिन जामदार और न्यायमूर्ति सारंग कोतवाल की पीठ ने मामले की सुनवाई करते हुए कहा था कि इस मुद्दे में रानौत के अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के मौलिक अधिकार का बड़ा सवाल शामिल है।

मुंबई पुलिस ने कहा कि कंगना रनौत इस मामले में पुलिस का सहयोग नहीं कर रही हैं। जिस पर कंगना के वकील ने कहा है कि वह पुलिस के सामने पेश होने को तैयार है, लेकिन मामले में उनकी गिरफ्तारी होने की आशंका है।

इस पर मुंबई पुलिस ने बॉम्बे हाईकोर्ट को भरोसा दिलाया कि वह कंगना रनौत को 25 जनवरी 2022 तक गिरफ्तार नहीं करेगी। सुनवाई के बाद कोर्ट ने उन्हें कुछ राहत प्रदान करते हुए कंगना रनौत से 22 दिसंबर को मुंबई पुलिस के सामने पेश होने को कहा है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें