बड़ी खबर विशेष

डेमोक्रेसी इंडेक्स में 10 पायदान नीचे फिसला भारत, पहले नंबर पर रहा नॉर्वे

नई दिल्ली। इकानॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट द्वारा जारी ताजा डेमोक्रेसी इंडेक्स में भारत 10 पायदान नीचे खिसक गया है। 2019 के इंडेक्स में भारत का 51वां स्थान है, इससे पहले वो 41वें स्थान पर था। वहीँ नागरिक स्वतंत्रता के मामले में नॉर्वे सबसे ऊपर है।

नॉर्वे के बाद दूसरे स्थान पर आइसलैंड और तीसरे स्थान पर स्वीडन का नाम दर्ज है। शीर्ष 10 में अन्य देशों में चौथे स्थान पर न्यूजीलैंड, फिनलैंड (5 वें), आयरलैंड (6 वें), डेनमार्क (7 वें), कनाडा (8 वें), ऑस्ट्रेलिया (9 वें) और स्विट्जरलैंड (10 वें) शामिल हैं। उत्तर कोरिया 167 वें स्थान पर वैश्विक रैंकिंग में सबसे नीचे था।

डेमोक्रेसी इंडेक्स 5 चीजों, चुनाव प्रक्रिया, बहुलतावाद, नागरिक स्वतंत्रता और सरकार के कामकाज पर देश को आंकता है। इकानॉमिस्ट इंडेलिजेंस यूनिट ने इसका कारण बताते हुए लिखा, कि भारत में “नागरिक स्वतंत्रता में कमी” इसका प्राथमिक कारण है।

2018 में भारत का कुल स्कोर 7.23 से गिरकर 6.90 हो गया है। यह दुनिया भर में 165 स्वतंत्र राज्यों और दो क्षेत्रों के लिए लोकतंत्र की वर्तमान स्थिति की संक्षिप्त स्थिति बताता है।

ये भी पढ़ें:  ड्रग कंट्रोलर की जांच में BJP सांसद गौतम गंभीर का फाउंडेशन दवा की जमाखोरी का दोषी करार

इकानॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट की ताज़ा रिपोर्ट में भारत के बारे में रिपोर्ट में कहा गया है कि भारत डेमोक्रेसी इंडेक्स की वैश्विक रैंकिंग में 51वें पायदान पर आ गया है।

इसका मुख्य कारण देश में लोकतंत्र में संघर्षऔर नागरिक स्वतंत्रता में कमी बताया गया है। उनके कुल स्कोर के आधार पर, देशों को चार प्रकार के शासन में वर्गीकृत किया जाता है: “पूर्ण लोकतंत्र” (8 से अधिक स्कोर); त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र 6 से अधिक स्कोर और 8 से कम या उसके बराबर; मिलाजुला शासन 4 से अधिक स्कोर और 6 से कम या उसके बराबर; अधिनायकवादी शासन 4 से कम या बराबर स्कोर।”

भारत को “त्रुटिपूर्ण लोकतंत्र” श्रेणी में शामिल किया गया था। इस बीच, 2019 के सूचकांक में चीन का स्कोर गिर कर 2.26 हो गया और यह वैश्विक रैंकिंग में अब 153 वें स्थान पर है।

इकानॉमिस्ट इंटेलिजेंस यूनिट की रिपोर्ट में कहा गया है कि “पिछले कुछ सालों में, विशेष रूप से शिनजियांग के उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में अल्पसंख्यकों के खिलाफ भेदभाव तेज हो गया है। 2019 में जनता की डिजिटल निगरानी जारी रही जो व्यक्तिगत स्वतंत्रता की बाधा को दर्शाती है।

उभरती हुई अन्य अर्थव्यवस्थाओं में, ब्राजील 6.86 के स्कोर के साथ 52 वें स्थान पर था तो रूस 3.11 के स्कोर के साथ 134 वें स्थान पर था। इसमें पाकिस्तान 4.25 के स्कोर के साथ सूची में 108 वें स्थान पर था जबकि श्रीलंका 6.27 के स्कोर के साथ 69 वें स्थान पर था। बांग्लादेश 5.88 स्कोर के साथ 80 वें स्थान पर है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें