देश बड़ी खबर

भुखमरी के मामले में पाकिस्तान, बांग्लादेश से भी पिछड़ा भारत, 94वे नंबर पर पहुंचा

नई दिल्ली। भुखमरी के मामले में भारत के लिए बुरी खबर है। ग्लोबल हंगर इंडेक्स 2020 के जारी 107 देशो के आंकड़ों में भारत पाकिस्तान, बांग्लादेश और म्यांमार से भी पिछड़ गया है और अब वह दुनिया में 94वे स्थान पर आ गया है।

वहीँ भारत के पड़ौसी देशो में बांग्लादेश 75वें, म्यांमार 78वे, नेपाल 73वें, श्रीलंका 64वें और पाकिस्तान 88वें स्थान पर हैं। वहीँ चीन, बेलारूस, यूक्रेन, तुर्की, क्यूबा और कुवैत सहित 17 देश भूख और कुपोषण पर नजर रखने वाले वैश्विक भूख सूचकांक (जीएचआई) में शीर्ष रैंक पर हैं।

रिपोर्ट के मुताबिक ग्लोबल हंगर इंडेक्स की रिपोर्ट के अनुसार, 27.2 के स्कोर के साथ भारत में भूख का स्तर काफी “गंभीर” है। भारत की करीब 14% आबादी कुपोषण का शिकार है यानि 14 फीसद लोगों को पेट भर खाना नसीब नहीं है। रिपोर्ट में कहा गया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर 3.7 प्रतिशत थी। इसके अलावा ऐसे बच्चों की दर 37.4 थी जो कुपोषण के कारण नहीं बढ़ पाते।

हालांकि पिछले वर्ष की तुलना में भारत की रैंकिंग में सुधार हुआ है। पिछले वर्ष ग्लोबल हंगर इंडेक्स मे भारत की रैकिंग 117 मुल्कों की लिस्ट में भारत की रैंकिंग 102 थी। लेकिन पड़ौसी छोटे मुल्को से पिछड़ना भारत के लिए चिंताजनक बात है।

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि खराब क्रियान्वयन प्रक्रिया, प्रभावी निगरानी की कमी और कुपोषण से निपटने के लिए दृष्टिकोण में समन्वय का अभाव अक्सर खराब पोषण सूचकांकों का कारण होते हैं।

गौरतलब है कि ग्‍लोबल हंगर इंडेक्स 2019 की रिपोर्ट में चीन 25वें, पाकिस्‍तान, 94वें, बांग्‍लादेश 88वें, नेपाल 73वें, म्‍यांमार 69वें और श्रीलंका 66वें पायदान पर थे। वहीं बेलारूस, यूक्रेन, तुर्की, क्‍यूबा, और कुवैत रैंकिंग में अव्‍वल रहे थे। पिछले साल भारत की रैंकिंग 117 देश में से 102 थी, वहीं 2018 में भारत 119 देश में से 103वें स्‍थान पर था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें