बड़ी खबर सोशल

कोरोना वैक्सीन के नाम पर ठगी की कोशिशें, आप रहिये सावधान

नई दिल्ली। ठगी करने वालो को इंतजार रहता है कि वे किस तरह आपदा को अवसर में बदल लें। लॉकडाउन के दौरान लोन देने के नाम पर हज़ारो लोगों से ठगी करने के बाद अब ठगो से लोगों से पैसा ऐंठने के लिए नया रास्ता ढूंढ़ निकाला है।

नए तरीके से ठगी करने के लिए अब लोगों को कोरोना वैक्सीन का हवाला दिया जा रहा है। कई लोगों को अब तक इस तरह के एसएमएस और फोन आ चुके हैं। जिनमे उनसे कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए उनकी निजी जानकारी मांगी गई है।

इतना ही नहीं लोगों को फोन करके कहा जा रहा है कि कोरोना वैक्सीन लगवाने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन कराएं। इसके बाद उनसे उनका आधार नंबर, पैन नंबर और बैंक खाते की जानकारी मांगी जा रही है।

धोखाधड़ी के इस नए तरीके से लोगों को आगाह करने के लिए दिल्ली पुलिस के डीसीपी(साऊथ-वेस्ट) ने ट्वीट किया है। उन्होंने ट्वीट कर कहा कि साइवर अपराध के इस नए तरीके से सावधान रहें।

ट्वीट में कहा गया है कि जालसाज लोगों को फोन करके कोरोना वैक्सीन के रजिस्ट्रेशन के नाम पर उनके आधार, ईमेल जानकारी लेकर आधार को वेरिफाई करने के नाम पर ओटीपी की जानकारी ले लेते हैं और जैसे ही ओटीपी की जानकारी दी जाती है वह आधार बैंक से जुड़े होने के कारण उनके एकाउंट से पैसे निकाल ले रहे हैं।

ये भी पढ़ें:  Live: सुप्रीम कोर्ट ने तीनों कृषि कानूनों के अमल पर लगाई रोक

आपको बता दें कि कोरोना वैक्सीन के लिए सरकार एक एप CoWIN की शुरुआत करने जा रही है जिस पर रजिस्ट्रेशन कराकर कोई व्यक्ति वैक्सीन प्राप्त कर सकेगा। इस CoWIN एप पर रजिस्ट्रेशन फ्री होगा। इसके लिए किसी तरह का कोई चार्ज या फीस सरकार की तरफ से निर्धारित नही की गई है। इसलिए यदि आपको कोरोना वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन करवाने के लिए कोई फोन या एसएमएस आता है तो सावधान हो जाइये और अपनी निजी जानकारियां किसी से साझा मत करिये।

फर्जी CoWIN ऐप से सावधान, स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी किया अलर्ट :

स्वास्थ्य मंत्रालय ने लोगों को अलर्ट करते हुए बताया कि कुछ असामाजिक तत्वों की ओर से CoWIN नाम से ऐप बनाकर ऐप स्टोर में डाल दिया गया है। जिससे लोग भ्रमित हो सकते हैं। मंत्रालय ने लोगों से CoWIN नाम के ऐप को डालनलोड करने से बचने की सलाह दी है।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा है कि ऐसे ऐप को न तो डाउनलोड करें और न ही उसमें कोई व्यक्तिगत जानकारी साझा करें। मंत्रालय ने आगे बताया कि जब ऐप लांच किया जाएगा तो उसकी जानकारी दी जाएगी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें