दुनिया बड़ी खबर

भारत में लाखो लोग बेघर लेकिन उधोगपति ठाठ बाट में राजाओं और मुगलों को भी छोड़ रहे हैं पीछे: ओबामा

वाशिंगटन। अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति बराक ओबामा ने अपनी नई किताब में भारतीय उधोगपतियों के ऐश-आराम और ठाठबाट पर सवाल उठाये हैं। ओबामा ने अपनी नई किताब में उन्होंने कहा है कि भारत में अभी भी लाखो लोग बेघर हैं लेकिन भारतीय उधोगपतियों को इससे कोई फर्क नहीं पड़ता, उन्होंने अपने ठाट बाट में मुगलो और राजाओ को भी पीछे छोड़ दिया है।

ओबामा ने अपनी किताब ‘ए प्रॉमिस्ड लैंड’ में कई जगह भारत का ज़िक्र किया है। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के साथ अपनी मुलाकात और अनौपचारिक बातचीत का जिक्र भी अपनी किताब में किया है और भारतीय उधोगपतियों को लेकर सवाल उठाये हैं।

ओबामा ने किताब में लिखा कि सहयोगियों के बिना हुई बातचीत के दौरान डा मनमोहन सिंह ने उनसे कहा, ‘‘ अनिश्चितता भरे वक्त में, राष्ट्रपति महोदय, धार्मिक और जातीय एकजुटता का आह्वान बहकाने वाला हो सकता है और भारत में या कहीं भी राजनेताओं के लिए इसका दोहन करना बुहत मुश्किल नहीं है।’’

ओबामा ने लिखा, देशभर में लाखों लोग गंदगी और गिलाजत में रह रहे हैं, अकालग्रस्त गांवों या बदहाल झुग्गी-बस्तियों में जीवन बसर कर रहे हैं। वहीं भारतीय उद्योग के महारथी ऐसा जीवन जी रहे हैं कि इससे राजाओं और मुगलों को भी जलन हो जाए।

ये भी पढ़ें:  AIMIM के विधायक ने कहा "हिंदुस्तान की नहीं भारत के संविधान की शपथ लुंगा"

भारत-पाकिस्तान मुद्दे से लोगों को प्रभावित करने की सियासत पर ओबामा ने लिखा, ‘‘पाकिस्तान के प्रति दुश्मनी भाव व्यक्त करना राष्ट्र को एकजुट करने का सबसे आसान रास्ता है। ढेर सारे भारतीयों को इस बात पर गर्व है कि पाकिस्तान का मुकाबला करने के लिए देश ने परमाणु हथियार कार्यक्रम विकसित किया। उन्हें इस सच्चाई की कोई परवाह नहीं है कि किसी भी ओर से कोई चूक क्षेत्र का विनाश कर सकती है।’’

अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा की नई किताब दो भागो में है। किताब का पहला भाग मंगलवार को दुनियाभर में जारी हुआ। दूसरा भाग भी जल्द ही जारी किया जाएगा।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें