बिहार-झारखंड राज्य

बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे जनता दल यूनाइटेड में शामिल

पटना ब्यूरो। बिहार पुलिस के पूर्व डीजीपी गुप्तेश्वर पांडे आज विधिवत जनता दल यूनाइटेड में शामिल हो गए। गुप्तेश्वर पांडे द्वारा अपनी नौकरी से स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति (वीआरएस) लिए जाने के बाद ही कयास लगाए जा रहे थे कि वे एकबार फिर राजनीति में उतरेंगे।

गुप्तेश्वर पांडे ने हाल ही में बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात की थी। इस मुलाकात के बाद ही यह तय माना जा रहा था कि गुप्तेश्वर पांडे कभी भी जेडीयू में शामिल हो जाएंगे।

आज मुख्यमंत्री और जेडीयू के अध्यक्ष नीतीश कुमार ने गुप्तेश्वर पांडे को विधिवत जनता दल यूनाइटेड की सदस्यता ग्रहण कराई। जनता दल यूनाइटेड में शामिल होने के बाद गुप्तेश्वर पांडे ने कहा, “मुझे खुद सीएम ने बुलाया और शामिल होने के लिए कहा. पार्टी मुझसे जो भी करने को कहेगी, मैं करूंगा। मैं राजनीति नहीं समझता, मैं एक साधारण व्यक्ति हूं, जिन्होंने अपना समय समाज के निचले तबके के लिए काम करने में बिताया है।”

उन्होंने कहा “मैं शुरू से ही नीतीश कुमार से प्रभावित रहा हूं जिस तरह से पुलिस को सहयोग करने का काम, आपराधिक और असामाजिक तत्वों के प्रति पूरी सख्ती बरतने के आदेश दिए। किसी भी प्रशासनिक कार्रवाई में किसी भी तरह का हस्तक्षेप उन्हें बर्दाश्त नहीं था ये बात मुझे बहुत अच्छी लगी।”

ये भी पढ़ें:  सपा में अपनी पार्टी विलय नहीं करेंगे शिवपाल, बताया पूरा प्लान

विधानसभा चुनाव में अपनी भूमिका के सवाल पर पूर्व डीजीपी ने कहा, “आगे मेरे दल के नेताओं का जो आदेश होगा उसके हिसाब से मैं काम करूंगा। मैं दल का अनुशासित सिपाही हूं। चुनाव लड़ना या नहीं लड़ना ये मेरा फैसला नहीं हो सकता।”

गौरतलब है कि बिहार पुलिस का डीजीपी रहते हुए गुप्तेश्वर पांडे उस समय सुर्ख़ियों में आये जब सुशांत सिंह राजपूत मामले में उन्होंने मीडिया में कई बयान दिए। उन्होंने फिल्म अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती को लेकर विवादित बयान भी दिया था।

वहीँ गुप्तेश्वर पांडेय के जेडीयू में शामिल होने को लेकर शिवसेना सांसद प्रियंका चतुर्वेदी ने ट्वीट कर कहा कि “कैंपेन तो मुंबई की पुलिस को गाली देकर शुरू कर ही ली थी। एक मौत को राजनीतिक सीडी बना ही ली थी। अब उम्मीद है बिहार की जनता इनका भी हिसाब-किताब तय करेगी।”

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें