छत्तीसगढ़ बड़ी खबर राज्य

फेसबुक की पॉलिसी हेड अंखी दास के खिलाफ एफआईआर

नई दिल्ली। हेट कंटेंट न हटाए जाने के मामले में फेसबुक की पॉलिसी हेड अंखी दास और दो अन्य के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है। यह मामला रायपुर के पत्रकार आवेश द्वारा की गई शिकायत के बाद दर्ज किया गया है।

इससे पहले अंखी दास द्वारा दिल्ली पुलिस को दी गई शिकायत के बाद आवेश तिवारी पर मामला दर्ज किया था, अंखी दास ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया गया था कि उन्हें जान से मारने की धमकी मिल रही थी।

आवेश दास ने फेसबुक की पॉलिसी हैड अंखी दास और दो अन्य सोशल मीडिया यूजर्स के खिलाफ धार्मिक भावनाएं आहत करने का मामला दर्ज कराया है। न्यूज़ एजेंसी पीटीआई के मुताबिक जिन अन्य दो सोशल मीडिया यूजर्स के खिलाफ मामला दर्ज कराया गया है उनकी पहचान मुंगेली(छत्तीसगढ़) के राम साहू और इंदौर(मध्य प्रदेश) के विवेक सिन्हा के रूप में हुई है।

पुलिस के मुताबिक फेसबुक की पॉलिसी हैड अंखी दास और दो अन्य सोशल मीडिया यूजर्स के खिलाफ धारा 295 (ए) (जानबूझकर और दुर्भावनापूर्ण कृत्यों से धार्मिक भावनाओं को अपमानित करना), 505 (1) (सी) (उकसाने के इरादे से, या जिसे उकसाने की संभावना या किसी भी वर्ग या व्यक्तियों का समुदाय किसी अन्य वर्ग या समुदाय के खिलाफ अपराध) और भारतीय दंड संहिता की 506 (आपराधिक धमकी), 500 (मानहानि) और 34 (आम इरादा) के तहत दर्ज किया गया है।

पत्रकार आवेश तिवारी ने यह शिकायत फेसबुक की पॉलिसी हैड अंखी दास द्वारा दिल्ली पुलिस में दी गई उस शिकायत के बाद दर्ज कराई है जिसमें अंखी दास ने आरोप लगाया गया था कि उन्हें ऑनलाइन पोस्ट के माध्यम से जान से मारने की धमकी मिल रही थी।

आवेश तिवारी ने 16 अगस्त को पुलिस में दी गई अपनी शिकायत में कहा कि उन्होंने वॉल स्ट्रीट जर्नल में प्रकाशित एक लेख से संबंधित अपने फेसबुक अकाउंट पर एक पोस्ट डाला। जिस पर साहू और सिन्हा नामक फेसबुक यूजर्स फेसबुक की पॉलिसी हैड अंखी दास का बचाव करने के लिए कूद गए और उनकी (तिवारी की) पोस्ट पर टिप्पणी की कि अंखी दास एक हिंदू हैं और वह विश्वास के हित में बात कर रहे हैं। साहू ने कथित रूप से अपमानजनक और सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील तस्वीरें पोस्ट की और उन्हें धमकी भी दी।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें