देश बड़ी खबर

Live: किसानो का दिल्ली कूंच जारी, कई जगह किसानो और पुलिस में झड़प

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ दिल्ली कूंच कर रहे किसानो और सुरक्षा बलों के बीच कई जगह झड़प की खबरों के बीच कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भारतीय जनता पार्टी किसानो के साथ ईस्ट इंडिया कंपनी और जनरल डायर की तरह व्यवहार कर रही है।

कांग्रेस प्रवक्ता जयवीर शेरगिल ने कहा कि देश के किसान के साथ भाजपा ईस्ट इंडिया कंपनी और जनरल डायर जैसा व्यवहार कर रही है। जिस किसान का लाल गुलाब देकर स्वागत करना चाहिए, उसका लाल लहू भाजपा बेशर्मी से सड़कों पर बहा रही है।

उन्होंने कहा कि भाजपा एक तरफ पाकिस्तान आतंकवाद समर्थित आईएसआई आर्मी का लाल कालीन बिछा कर पंजाब में स्वागत करती है, पर पंजाब के किसान को दिल्ली में आने की इजाज़त नहीं देती। क्या ये नया भारत है?

वहीँ इससे पहले आज दिल्ली से सटे कई राज्यों के बॉर्डर पर किसानो और पुलिस के बीच झड़पें हुईं। पुलिस ने कई जगह वाटर कैनन का इस्तेमाल किया, आंसू गैस के गोले छोड़े और लाठी चार्ज किया। इसके बावजूद किसानो का दिल्ली की तरफ बढ़ना जारी है।

ये भी पढ़ें:  अपनी मांगो से एक इंच पीछे नहीं हटेंगे किसान, 2024 तक आंदोलन चलाने के लिए तैयार: टिकैत

नए कृषि क़ानूनों के ख़िलाफ़ मथुरा में प्रदर्शन कर रहे कुछ किसान प्रदर्शनकारियों को सड़क पर जाम लगाने के लिए पुलिस ने हिरासत में लिया। वहीँ दिल्ली की ओर कूच रहे किसानों को तितर-बितर करने के लिए शंभू बॉर्डर पर सुरक्षा बल वाटर कैनन और आंसू गैस का इस्तेमाल कर रहे हैं।

कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली आने के लिए टिकरी बॉर्डर पर इकट्ठा हुए किसान। किसानों को दिल्ली में आने से रोकने के लिए बड़ी संख्या में सुरक्षा बल तैनात किया गया है।

एक किसान प्रदर्शनकारी ने न्यूज़ एजेंसी एएनआई को बताया, “हमें प्रदर्शन करने का भी हक नहीं है, ऐसे बेरिकेड लगाए हैं जैसे कि हम पाकिस्तान या चीन से आए हैं। हम अपनी राजधानी में प्रदर्शन करने जा रहे हैं।”

वहीँ किसानो का दिल्ली कूंच जारी है। कई रास्तो से किसान दिल्ली पहुंचने की भरपूर कोशिश कर रहे हैं। सोनीपत दिल्ली मार्ग पर किसानो का जत्था दिल्ली की तरफ बढ़ रहा है।

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टेन अमरिंदर सिंह ने केंद्र सरकार से अनुरोध किया है कि सरकार किसान यूनियनों से तुरंत बातचीत कर इस मामले का हल निकाले। उन्होंने कहा कि दिल्ली की सीमाओं पर तनावपूर्ण स्थिति को शांत करने के लिए किसान यूनियनों से तुरंत बातचीत शुरू की जाए।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें