पड़ताल बड़ी खबर

पड़ताल: किसी डा आयशा की नहीं हुई कोरोना से मौत

नई दिल्ली। ट्विटर पर डा आयशा के नाम से बने प्रोफाइल में खुद को डॉक्टर बताते हुए दावा किया गया कि उसे कोविड-19 के मरीजों के उपचार के लिए अनुबंधित किया गया है। इसी ट्विटर प्रोफ़ाइल से दावा किया गया कि डा आयशा खुद भी कोरोना संक्रमण का शिकार हो गयीं और उसकी मौत हो गई है।

एक युवा डॉक्टर के रूप में पहचाने जाने वाले डॉ आइशा की “सेल्फी” पिछले कुछ हफ्तों से सोशल मीडिया पर घूम रही थी और रविवार को टॉप ट्रेंडिंग में आ गई। पड़ताल करने पर पाया गया कि डॉ आयशा की सेल्फी और उसकी “मौत” की खबरें फ़र्ज़ी हैं।

सोशल मीडिया पर अस्पताल के बेड लेटे हुए डा आयशा के तौर पर जो तस्वीर वायरल हो रही है, यह वायरल तस्वीर 31 जुलाई को डॉ आइशा ’नामक एक हैंडल द्वारा पोस्ट की गई थी और कैप्शन में दावा किया गया था कि उसे कोविड -19 के लिए अनुबंधित किया गया था और कोरोना संक्रमित होने कारण अब उसे वेंटिलेटर सपोर्ट की आवश्यकता है।

डा आयशा को लेकर सोशल मीडिया पर यह भी दावा किया गया कि उसने 7 जुलाई को अपना जन्मदिन मनाया और इस शानदार मुस्कान के साथ कल ईद पर इस दुनिया को अलविदा कह दिया। इतना ही नहीं ये कहानी भी गढ़ी गई कि कोरोना संक्रमित होने के कारण अस्पताल ने डा आयशा के शव को पैक कर उसके परिजनों को सौंपा दिया है।

ये भी पढ़ें:  सुवेंदु अधिकारी के सियासी भविष्य पर खतरा, ममता ने किया नंदीग्राम से चुनाव लड़ने का एलान

डा आयशा नामक प्रोफ़ाइल से किये गए ट्वीट को सैकड़ो की तादाद में ट्विटर यूजर्स ने रीट्वीट किया और इसे अन्य सोशल मीडिया प्लटफॉर्म पर भी शेयर किया गया। डा आयशा नामक प्रोफ़ाइल अब ट्विटर से डिलीट हो चूका है।

पड़ताल के लिए तमाम जगह से डा आयशा की मौत की पुष्टि की कोशिश की गई, लेकिन इस नाम की किसी महिला डॉक्टर की कोरोना से मौत की पुष्टि नहीं हुई है। जब डा आयशा द्वारा शेयर की गई तस्वीर की सच्चाई निकालने की कोशिश की गई तो यह तस्वीर फ़र्ज़ी निकली। यह स्टॉक इमेज बेचने वाली एक वेबसाइट से ली गई तस्वीर पाई गई।

पड़ताल में पाया गया कि जिस तस्वीर को डा आयशा की तस्वीर बताकर शेयर किया जा रहा है, वह वास्तव में 2017 के बाद से कई वेबसाइटों द्वारा नियमित रूप से उपयोग की जाने वाली स्टॉक इमेज है।

कुल मिलाकर हमारी पड़ताल में यह खबर पूरी तरह से फ़र्ज़ी और काल्पनिक साबित हुई है। डा आयशा नामक किसी डॉक्टर को कोरोना संक्रमण नहीं हुआ, इस नाम की किसी डॉक्टर की कोरोना से मौत नहीं हुई। अब चूंकि जिस ट्विटर एकाउंट से इस तरह के ट्वीट किये गए थे वह एकाउंट भी डिलीट हो चूका है, इसलिए अब इस खबर में सत्यता की कोई गुंजाईश नहीं बचती।

ये भी पढ़ें:  अर्नब चैट लीक मामले में एनसीपी ने की जेपीसी के गठन की मांग

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें