बड़ी खबर राजनीति

ईवीएम को लेकर स्वामी ने साधा निशाना तो दिग्विजय ने दे डाला न्यौता

नई दिल्ली। असम में बीजेपी उम्मीदवार की कार में ईवीएम मिलने की घटना का खुलासा होने के बाद बीजेपी सांसद सुब्रमणियम स्वामी ने बिना नाम लिए इशारो में अपनी ही सरकार को कटघरे में खड़ा किया है।

सुब्रमणियम स्वामी द्वारा इशारो में साधे गए निशाने पर कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने भी उन्हें ईवीएम के विरोध में शामिल होने का न्यौता देने में देर नहीं लगाई।

गौरतलब है कि असम में दूसरे चरण के विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा विधायक और पथराकांडी सीट से बीजेपी उम्मीदवार कृष्णेंदु पॉल की सफ़ेद बोलेरो से ईवीएम मिली थी। यह कार कृष्णेंदु पॉल की पत्नी के नाम से रजिस्टर्ड है।

बीजेपी उम्मीदवाए की कार में ईवीएम मिलने की घटना को लेकर सुब्रमणियम स्वामी ने कहा इलेक्ट्रानिक वोटिंग मशीन एक होल सेल फ्रॉड है। स्वामी के ट्वीट पर वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने पूछा कि “अगर आपको लगता है कि ईवीएम एक होल सेल फ्रॉड है तो क्या बैलेट बॉक्स की वापसी के लिए आप हमारे अभियान में हमारा साथ देंगे?”

शनिवार को दिग्विजय सिंह ने एक ट्वीट में लिखा, ‘सुब्रमण्यम स्वामी जी क्या आपको अभी भी लगता है कि ईवीएम एक होल सेल फ्रॉड है? अगर हां तो क्या आप बैलेट बॉक्स की वापसी के लिए हमारे अभियान में हमारा साथ देंगे?’

ये भी पढ़ें:  राज्य सरकारों की दादागिरी पर सुप्रीमकोर्ट के ब्रेक, परेशान लोगों पर कार्रवाही होगी अवमानना

गौरतलब है कि बीजेपी सांसद अर्थव्यवस्था सहित कई अहम मुद्दों पर अपनी ही सरकार के खिलाफ राय रखते रहे हैं। स्वामी ईवीएम को लेकर पहले भी विरोध जता चुके हैं।

बता दें कि गुरुवार को असम में दूसरे चरण के चुनाव के बाद पथरकंडी विधानसभा सीट पर बीजेपी उम्मीदवार की कार में ईवीएम मिलने की घटना सामने आने के बाद चुनाव आयोग ने इस मामले में रिपोर्ट तलब की है। न्यूज़ एजेंसी एएनआई के मुताबिक चुनाव आयोग ने उक्त मामले में चार पोलिंग अफसरों सस्पेंड कर दिया है।

वहीँ कांग्रेस ने इस मामले में आक्रामक रुख दिखाते हुए चुनाव आयोग को कटघरे में खड़ा किया है। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बीजेपी उम्मीदवार की कार में ईवीएम मिलने की घटना पर कहा कि “चुनाव आयोग की गाड़ी खराब हुई, तभी वहां एक गाड़ी प्रकट हुई। गाड़ी भाजपा के प्रत्याशी की निकली। मासूम चुनाव आयोग उसमें बैठ कर सवारी करता रहा। प्रिय EC, माजरा क्या है? आप देश को इस पर कुछ सफाई दे सकते हैं? या हम सब मिलकर बोलें EC की निष्पक्षता को वनक्कम?”

कांग्रेस नेता सुष्मिता देव ने कहा कि यह एक आपराधिक कृत्य है और हम उम्मीदवार को तत्काल अयोग्य घोषित करने की मांग करते हैं। यह साफ है कि असम में भाजपा हार रही है यही कारण है कि चुनाव जीतने के लिए अवैध साधनों का उपयोग कर रही है, जो अस्वीकार्य है।

ये भी पढ़ें:  सुप्रीमकोर्ट ने केंद्र को फिर फटकारा: तीसरी लहर का खतरा मंडरा रहा और हम यहीं अटके हैं

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें