देश बड़ी खबर

अर्नब के दावे में कई झोल, शिकायत लेकर NBSA पहुंची कांग्रेस

नई दिल्ली। रिपब्लिक टीवी पर लाइव डिबेट में कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी के खिलाफ ऊलजलूल बातें करने वाले अर्नब गोस्वामी द्वारा देर रात एक वीडियो जारी कर दावा किया गया कि उसके ऊपर युवक कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा हमला करने की कोशिश की गई।

अर्नब द्वारा खुद पर हमला किये जाने के दावे पर कई सवाल उठ रहे हैं। पहला सवाल यही है कि अर्नब गोस्वामी को वाई श्रेणी (Y Category) की सुरक्षा प्राप्त है। अगर अर्नब और उनकी पत्नी पर हमला किया गया था, तब उसके सुरक्षा गार्ड क्या कर रहे थे?

दूसरा सवाल अर्नब के उस दावे को लेकर है जिसमे उसने कहा कि हमलावरों की सुरक्षा के साथ चर्चा हुई और उन्होंने सुरक्षा गार्डो को बताया कि वे यूथ कांग्रेस से हैं। यदि ऐसा था तो सुरक्षा गार्डो ने हमलावरों को पुलिस को क्यों नहीं सौंपा?

अर्नब के दावे में एक और झोल बीजेपी प्रवक्ता संबित पात्रा के ट्वीट से पैदा हुआ है। यह झोल उस समय पैदा हुआ जब रिपब्लिक टीवी से पहले ही संबित पात्रा ने अर्नब पर हमले की सूचना ट्वीट कर दी। यहाँ अहम सवाल यह है कि अर्नब पर हमले की जानकारी रिपब्लिक टीवी से पहले संबित पात्रा को कैसे मिली ?

तकनीकी सवाल:

अर्नब गोस्वामी द्वारा अपने हमले की जानकारी के लिए जारी किये गए वीडियो के समय को लेकर भी अब सवाल उठ रहे हैं। वीडियो के मेटा डेटा का विश्लेषण करने पर खुलासा हुआ है कि हमले की जानकारी देने वाला वीडियो 8:17 बजे तक बनाया गया था। जबकि अर्नब गोस्वामी ने खुद पर हमले का समय रात 12 बजे के आसपास का समय बताया है।

यहाँ अहम सवाल यह है कि क्या अर्नब ने हमले की जानकारी देने वाला वीडियो हमला होने से पहले ही बना लिया था ? कांग्रेस नेता गौरव पांधी ने वीडियो का मेटा डेटा शेयर करते हुए कई सवाल उठाये हैं।

वहीँ दूसरी तरफ आज भी देश के कई इलाको में कांग्रेस नेताओं ने रिपब्लिक टीवी और अर्नब गोस्वामी के खिलाफ एफआईआर दर्ज कराईं। अर्नब गोस्वामी के खिलाफ कल से अब तक करीब 100 शिकायतें दर्ज हो चुकी हैं। अर्नब प्रकरण में कांग्रेस ने रिपब्लिक टीवी और अर्नब गोस्वामी के खिलाफ नेशनल ब्रॉडकास्टिंग स्टेंडर्ड ऑथोरिटी में भी शिकायत दर्ज कराई है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें