DCW अध्यक्ष का राष्ट्रपति को पत्र- कंगना से अवार्ड वापस लेने और देशद्रोह दर्ज करने की मांग

नई दिल्ली। दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखकर फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत से पद्मश्री अवार्ड वापस लिए जाने और देशद्रोह का मामला दर्ज किये जाने की मांग की है।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखे पत्र में दिल्ली प्रदेश महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने कहा कि अभिनेत्री कंगना रनौत देश के शहीदों का अपमान किया है। इतना ही नहीं मालीवाल ने कहा कि कंगना को इलाज की ज़रूरत है।

वहीँ इससे पहले स्वाति मालीवाल ने ट्वीट कर कहा, “भगत सिंह, आजाद और गांधी की आजादी इन्हें भीख लगती है और सत्ता की गुलामी का मजा ले उसे असल आजादी बताती हैं। ऐसी सोच के लिए ही राष्ट्र पुरस्कार मिला है?” उन्होंने रनौत की एक वीडियो क्लिप भी साझा की, जिसमें उन्होंने ये टिप्पणियां की हैं।

गौरतलब है कि भारत को 1947 में मिली आजादी को ‘भीख’बताने वाली टिप्पणी को लेकर अभिनेत्री कंगना रनौत चौतरफा घिर गई है। देश के कई शहरो में कंगना रनौत के बयान के खिलाफ प्रदर्शन जारी हैं। कई शहरों में कंगना रनौत के बयान के खिलाफ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई गई है।

इस बीच भारतीय जनता पार्टी ने कंगना रनौत के बयान से पल्ला झाड़ लिया है। बीजेपी की महाराष्ट्र प्रदेश इकाई के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटिल ने कंगना के बयान का समर्थन करने से इंकार करते हुए कहा कि वे इस तरह के बयान का समर्थन नहीं करते।

वहीँ दूसरी तरफ महाराष्ट्र में शिवसेना ने कंगना रनौत के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। शिवसेना ने कंगना रनौत के बयान के खिलाफ एक मुहिम शुरू की है। शिवसेना कंगना रनौत से पद्मश्री अवार्ड वापस लेने और देशद्रोह का मामला दर्ज किये जाने की मांग कर रही है।

शिवसेना ही नहीं कांग्रेस तथा अन्य विपक्षी दलों ने भी कंगना के बयान के खिलाफ कई शहरो में विरोध प्रदर्शन किये हैं और कंगना के खिलाफ देशद्रोह का मामला दर्ज किये जाने और पद्मश्री अवार्ड वापस लिए जाने की मांग जोर पकड़ रही है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें