दुनिया बड़ी खबर

ट्रंप समर्थको की हिंसा, 4 की मौत, वाशिंगटन में 15 दिन की पब्लिक इमरजेंसी

वाशिंगटन। अमेरिका की राजधानी वाशिंगटन में कल राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप समर्थको द्वारा किये गए उपद्रव में चार लोगों की मौत के बाद वाशिंगटन में 15 दिन की पब्लिक इमरजेंसी लगा दी गई है।

बुधवार को इलेक्ट्रॉल कॉलेज की गिनती होने के बाद राष्ट्रपति पद के चुनाव परिणामो पर अंतिम मुहर लगनी थी। इस दौरान ट्रंप समर्थक जबरन कैपिटल बिल्डिंग में घुस गए थे। जिस समय ट्रंप समर्थको ने कैपिटल बिल्डिंग पर धावा बोला, उस समय बिल्डिंग में यूएस लॉ मेकर का एक बड़ा समूह मौजूद था।

कैपिटल बिल्डिंग में ट्रंप समर्थको की सुरक्षा कर्मियों के साथ तीखी झड़प भी हुई लेकिन सुरक्षा में तैनात अधिकारीयों ने बड़ी सूझबूझ से ट्रंप समर्थको को कैपिटल बिल्डिंग से बाहर निकाल दिया। सीएनएन के मुताबिक, हिंसा की घटनाओं में चार लोगों की मौत हुई है तथा ट्रंप समर्थकों के साथ झड़प में कई पुलिस अधिकारियों के घायल होने की खबर है।

राजधानी वाशिंगटन में बिगड़ते हालातो के बीच कर्फ्यू का एलान कर दिया गया है और 15 दिनों की पब्लिक इमरजेंसी की घोषणा की गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक लोगों के सड़क पर उतरने से पहले अमेरिकी राष्ट्रपति डोन्लड ट्रंप ने अपने समर्थको को संबोधित करते हुए कहा कि हम चुनाव जीते हैं लेकिन मतगणना में बड़े स्तर पर धांधली हुई है लेकिन हम किसी तरह भी हार नहीं मानेंगे। ट्रंप के इस संबोधन के बाद प्रदर्शनकारी सड़क पर उतर आये और वे केपिटल बिल्डिंग में घुस गए।

ये भी पढ़ें:  2024 में बीजेपी को दिल्ली की सत्ता से बेदखल करके दिखाउंगी: ममता

इलेक्ट्रॉल कॉलेज की गिनती का काम जारी:

भारी सुरक्षा व्यवस्था के बीच कैपिटल बिल्डिंग में एक बार फिर इलेक्ट्रॉल कॉलेज की गिनती का काम शुरू हुआ और राष्ट्रपति चुनाव के नतीजों पर अंतिम मुहर लगने की प्रक्रिया जारी है।

हर जगह हो रही ट्रंप की किरकिरी:

वाशिंगटन में बुधवार को ट्रंप समर्थको ने जो कुछ किया, उसे लेकर अमेरिका में राष्ट्रपति ट्रंप की ज़बरदस्त आलोचना हो रही है। वहीँ राष्ट्रपति ट्रंप द्वारा पेंसिल्वेनिया और नेवादा के चुनाव परिणामो पर जताई गई आपत्ति को भी ख़ारिज कर दिया गया है।

नेवादा के इलेक्टोरल वोटों को रिपब्लिकन प्रतिनिधियों द्वारा चुनौती दी गई थी, लेकिन किसी भी सीनेटर ने आपत्ति पर हस्ताक्षर नहीं किए। इसलिए इन वोटों को स्वीकार किया जाता है।

ट्रंप समर्थकों द्वारा अमेरिकी कैपिटल में हिंसा की निंदा करते हुए उपराष्ट्रपति माइक पेंस ने कहा कि हिंसा कभी नहीं जीतती है, स्वतंत्रता जीतती है। सीनेट नेता मिच मैककोनेल ने कहा कि 2020 के राष्ट्रपति चुनाव परिणाम को उलट देना “हमारे अमेरिकी गणराज्य को नुकसान पहुंचाएगा”

पेन्सिलवेनिया के इलेक्टोरल कॉलेज के परिणामों पर आपत्ति के खिलाफ सीनेट ने 92-7 वोट दिए। सीनेट और प्रतिनिधि सभा ने एरिज़ोना में राष्ट्रपति-चुनाव बिडेन की जीत के लिए एक चुनौती को अस्वीकार करने के लिए मतदान किया।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें