बड़ी खबर राजनीति

कांग्रेस में कन्हैया की एंट्री, जिग्नेश नहीं हुए शामिल

नई दिल्ली। दिल्ली के प्रतिष्ठित जवाहर लाल नेहरू विश्वविधालय (जेएनयू) छात्र संघ के पूर्व अध्यक्ष कन्हैया कुमार आज कांग्रेस में शामिल हो गए। पहले कहा जा रहा था कि कन्हैया कुमार के साथ गुजरात के बड़गांव से निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी भी कांग्रेस में शामिल होंगे लेकिन वे कांग्रेस में शामिल नहीं हुए। हालांकि पत्रकार वार्ता में कन्हैया कुमार के साथ जिग्नेश मेवाणी मौजूद रहे।

जब जिग्नेश मेवाणी से पूछा गया कि वे कांग्रेस में शामिल क्यों नहीं हुए? तो जबाव में जिग्नेश मेवाणी ने कहा कि वे व्यक्तिगत कारणों से कांग्रेस में शामिल नहीं हुए हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में शामिल होने की औपचारिकताएं तीन-चार महीने में पूरी हो जाएगी।

इस अवसर पर आयोजित पत्रकार वार्ता को संबोधित करते हुए कन्हैया कुमार ने कहा कि इस वक्त देश और संविधान को बचाना जरूरी है। इस दौरान कन्हैया कुमार ने मोदी सरकार पर भी जमकर निशाना साधा है।

उन्होंने कहा है, “इस देश के लाखों-करोड़ों नौजवानों को ये लगने लगा है कि अगर कांग्रेस नहीं बची तो देश नहीं बचेगा। हम कांग्रेस पार्टी में इसलिए शामिल हुए हैं क्योंकि कांग्रेस गांधी की विरासत को लेकर आगे चलेगी।”

ये भी पढ़ें:  लखीमपुर खीरी कांड: स्टेटस रिपोर्ट में देरी पर सुप्रीमकोर्ट की यूपी सरकार को कड़ी फटकार

कन्हैया कुमार ने कहा कि हम सबकी ज़िम्मेदारी है कि हम देश बचाने में अपना योगदान दें। उन्होंने मोदी सरकार पर कड़े प्रहार करते हुए कहा कि आज अपनी बात रखने की आज़ादी खत्म हो चुकी है।

कन्हैया कुमार ने कहा कि मैं कांग्रेस में इसलिए शामिल हो रहा हूं क्योंकि मुझे ये महसूस होता है कि देश में कुछ लोग सिर्फ लोग नहीं हैं, वो एक सोच हैं। वो देश की सत्ता पर न सिर्फ काबिज़ हुए हैं, देश की चिंतन परंपरा, संस्कृति, मूल्य, इतिहास, वर्तमान, भविष्य खराब करने की कोशिश कर रहे हैं।

कन्हैया कुमार को पार्टी में शामिल कराने के बाद कांग्रेस महासचिव (संगठन) केसी वेणुगोपाल ने कहा, ”हम इन युवा नेताओं कन्हैया कुमार और मेवाणी के साथ काम करने को लेकर आशान्वित हैं, ताकि देश पर शासन कर रही फासीवादी ताकतों को हरा सकें।”

वहीँ पत्रकार वार्ता के बाद निर्दलीय विधायक जिग्नेश मेवाणी ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि जिस तरह का उत्साह देखा है मुझे यकीन है कि काफी लोग जुड़ने वाले हैं। बेरोज़गारी और महंगाई पर जल्द एक जन आंदोलन खड़ा होगा… गुजरात में मैं, हार्दिक और कई लोग लड़ेंगे। पिछली बार 8-10 सीटों का फासला था लेकिन अब नहीं रहने देंगे।

ये भी पढ़ें:  पवार का केंद्र पर हमला: राजनीतिक फायदे के लिए सरकारी एजेंसियों का हो रहा दुरूपयोग

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें