अदालत नहीं पहुंची कंगना, कोर्ट ने कहा ‘अगली तारीख पर नहीं आई तो वारंट करेंगे जारी’

मुंबई। प्रख्यात गीतकार जावेद अख्तर द्वारा फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत के खिलाफ दायर किये गए आपराधिक मानहानि के मामले में कंगना रनौत एक बार फिर अदालत नहीं पहुंची। इस पर अदालत ने कड़ा एतराज जताते हुए अगली तारीख 20 सितंबर तय की है।

अदालत ने कहा कि यदि अगली तारीख पर भी कंगना अदालत में हाज़िर नहीं रहती तो उसके खिलाफ वारंट जारी किया जाएगा। कोर्ट द्वारा सख्त तेवर दिखाए जाने के बाद कंगना की मुश्किलें बढ़ती दिखाई दे रही हैं।

मंगलवार को जैसे ही अदालत में सुनवाई शुरू हुई तो कंगना रनौत की तरफ से पेश हुए वकील ने कंगना की तबियत खराब होने का हवाला देते हुए चिकित्सा प्रमाणपत्र कोर्ट के समक्ष प्रस्तुत किया। हालांकि कंगना के वकील ने अदालत से यह भी कहा कि कंगना अपनी फिल्म के प्रचार के लिए यात्रा कर रही है और उसमें “कोविड-19 के लक्षण” हैं।

इस पर जावेद अख्तर की तरफ से पेश हुए वकील ने आपत्ति जताई और कहा कि कंगना रनौत किसी न किसी नए बहाने से अदालत आने से बचती रही है। वह एक रणनीति के तहत इस मामले की सुनवाई को आगे बढ़ा रही है।

मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट आरआर खान ने इस मामले की सुनवाई के लिए 20 सितंबर की तारीख तय करते हुए कहा कि यदि इस बार भी कंगना रनौत सुनवाई के दौरान अदालत में मौजूद नहीं रहती तो उसके खिलाफ वारंट जारी किया जाएगा।

गौरतलब है कि कंगना रनौत ने बॉम्बे हाईकोर्ट में एक याचिका भी दायर की थी। जिसमें अख्तर द्वारा दायर आपराधिक मानहानि शिकायत पर स्थानीय अदालत द्वारा उसके खिलाफ शुरू की गई कार्यवाही को रद्द करने की मांग की गई थी। इस याचिका को पिछले गुरूवार हाईकोर्ट ने ख़ारिज कर दिया था।

गौरतलब है कि गीतकार जावेद अख्तर ने पिछले साल नवंबर में मजिस्ट्रेट की अदालत में एक शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें दावा किया गया था कि रनौत ने एक टेलीविजन साक्षात्कार में उनके खिलाफ मानहानिकारक बयान दिए थे, जिससे कथित तौर पर उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा था।

अख्तर ने शिकायत में दावा किया कि पिछले साल जून में अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत द्वारा कथित आत्महत्या के बाद, बॉलीवुड में मौजूद एक ‘कोटरी’ का जिक्र करते हुए रनौत ने एक साक्षात्कार के दौरान उनका नाम घसीटा। जावेद अख्तर की अर्ज़ी पर इस वर्ष फरवरी में अदालत ने कंगना रनौत को सुनवाई के दौरान अदालत में हाज़िर रहने के लिए समन जारी किया था।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें