देश बड़ी खबर

COV-IND-19: वैज्ञानिको ने जताया मई तक भारत में 13 लाख लोगों के संक्रमित होने का अंदेशा

नई दिल्ली। देश में तेजी बढ़ रही कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या के बीच शोधार्थियों द्वारा तैयार की गई COV-IND-19 नामक रिपोर्ट में कहा गया है कि आने वाले दिनों में भारत में कोरोना का कहर और बढ़ सकता है।

महामारी के शुरुआती चरण में अमेरिका और इटली के मुकाबले भारत पॉजीटिव मामलों को नियंत्रित करने में काफी हद तक सफल रहा है। लेकिन, इस आकलन में एक जरूरी चीज छूट गई है और वह ये कि इस वायरस से सचमुच में प्रभावित मामलों की संख्या कितनी है।

रिपोर्ट में चेतावनी दी गई है कि भारत में मई महीने के मध्य तक कोरोना वायरस से संक्रमित पुष्ट मामलों की संख्या एक लाख से लेकर 13 लाख तक हो सकती है।

वैज्ञानिकों की इस टीम में अमेरिका के जॉन हॉपकिंस विश्वविद्यालय की देबश्री रॉय भी शामिल हैं। वैज्ञानिकों ने कहा कि यह बात जांच के दायरे, जांच के नतीजों की सटीकता और उन लोगों की जांच पर निर्भर करती है जिनमें इस वायरस से संक्रमण के कोई लक्षण नहीं दिख रहे हैं।

वैज्ञानिकों ने रिपोर्ट में लिखा कि “अब तक, भारत में परीक्षण किए गए लोगों की संख्या अपेक्षाकृत कम रही है। व्यापक परीक्षण न हो पाने के कारण सामुदायिक स्तर पर संक्रमण को रोक पाना असंभव है, दूसरे शब्दों में, इसका यह मतलब है कि हम यह आकलन नहीं कर सकते कि अस्पतालों और स्वास्थ्य सुविधा केंद्रों के बाहर कितनी संख्या में संक्रमित व्यक्ति हैं।

उन्होंने कहा कि भारत के लिए यह जरूरी है कि वह देश में कोरोना वायरस संक्रमण के तेजी से फैलने से पहले बेहद कड़े उपायों को अपनाए। अपने विश्लेषण में, वैज्ञानिकों ने 16 मार्च तक भारत में रिपोर्ट किए गए मामलों की संख्या पर डेटा का उपयोग किया, और मॉडलिंग रोग संचरण के उपकरण लागू किए।

वैज्ञानिकों में दिल्ली स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स, नयी दिल्ली और मिशिगन विश्वविद्यालय, अमेरिका के वैज्ञानिक भी शामिल हैं। उन्होंने विश्व बैंक के डेटा का जिक्र करते हुए कहा कि भारत में प्रति 1000 व्यक्ति बेड की संख्या सिर्फ 0.7 है, जबकि फ्रांस में यह 6.5, दक्षिण कोरिया में 11.5, चीन में 4.2, इटली में 3.4 और अमेरिका में 2.8 है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें