बड़ी खबर राजनीति

15 जनवरी को किसानो के समर्थन में प्रदेश मुख्यालयों पर राजभवन घेरेंगे कोंग्रेसी

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले 45 दिनों से चल रहे किसान आंदोलन का समर्थन करते हुए आज कांग्रेस ने एक बार फिर मोदी सरकार पर सीधा हमला बोला और कहा कि यदि सरकार स्थिति संभालने में सक्षम नहीं है तो उसे सत्ता में बने रहने का हक नहीं है।

सुरजेवाला ने कहा कि मोदी सरकार षड्यंत्रकारी तरीके से न्याय मांग रहे देश के अन्नदाता को ‘थकाने और झुकाने की साजिश पर काम कर रही है। यदि सरकार अपनी जिम्मेदारी संभालने में असक्षम है, तो मोदी सरकार को एक मिनट भी सत्ता में बने रहने का अधिकार नहीं।

कांग्रेस महासचिव रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि 40 दिन से अधिक से लाखों अन्नदाता दिल्ली की सीमाओं पर काले कानून खत्म करने की गुहार लगा रहे हैं। हाड़ कंपकपाती सर्दी में, बारिश और ओलों में 60 से अधिक अन्नदाताओं ने दम तोड़ दिया।

उन्होंने कहा कि देश का दुर्भाग्य है कि अपने हक की लड़ाई लड़ते वक्त शहीद होने वाले अन्नदाताओं के लिये प्रधानमंत्री के मुंह से सांत्वना का एक शब्द भी नहीं निकला। सुरजेवाला ने कहा कि अब सरकार अन्नदाता की इस चेतावनी को समझे कि देश का किसान काले कानूनों को खत्म करवाने के लिए करो या मरो की राह पर चल पड़ा है।

ये भी पढ़ें:  दिल्ली की सीमाओं पर ट्रेक्टरो की भीड़ बढ़ी, किसानो का आना जारी

कांग्रेस नेता ने कहा कि देश के 73 साल के इतिहास में ऐसी निर्दयी, जुल्मी और निष्ठुर सरकार कभी नहीं बनी। जिसने ईस्ट इंडिया कंपनी वाली अंग्रेज सरकार को भी पीछे छोड़ दिया। उन्होंने कहा कि सरकार काले कानून खत्म करने की बजाय 40 दिनों से मीटिंग-मीटिंग खेल रही है; किसानों को तारीख पर तारीख दे रही है।

सुरजेवाला ने बताया कि कांग्रेस अध्यक्षा, श्रीमती सोनिया गांधी ने निर्णय किया है कि किसानों के समर्थन में हर प्रांतीय हेडक्वार्टर पर कांग्रेस पार्टी 15 जनवरी को ‘किसान अधिकार दिवस’ के रूप में एक जन आंदोलन करेगी। रैली और धरने के बाद राजभवन तक जाकर सरकार से तीनों काले कानून खत्म करने के लिए गुहार लगाएंगे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें