बड़ी खबर राजनीति

5 राज्यों के विधानसभा चुनाव के एलान पर बोले आज़ाद, “पूरी ताकत से चुनाव लड़ेगी कांग्रेस”

नई दिल्ली। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलामनबी आज़ाद ने कहा कि कांग्रेस पार्टी चुनाव में न सिर्फ अच्छा प्रदर्शन करेगी बल्कि कई राज्यों में उसकी सरकार भी बनेगी। चुनाव आयोग द्वारा 5 राज्यों में चुनाव की तारीखों के एलान पर गुलामनबी आज़ाद ने मीडिया से बात करते हुए कहा कि कांग्रेस डट के मुकाबला करेगी।

आज़ाद ने कहा कि कांग्रेस पार्टी का प्रयास होगा हम पांचों राज्यों में चुनाव लडेंगे और अच्छा करेंगे। हमारा प्रयास होगा कि सभी राज्यों में कांग्रेस की विजय हो।

वहीँ 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव के एलान पर कांग्रेस ने प्रेस कांफ्रेंस कर कहा कि हमे पूरा विश्वास है कि 5 राज्यों के लोग, जिन्हें भारतीय जनता पार्टी की सरकार केन्द्र में और जगह – जगह जो है, उनका जो कुःशासन हुआ है, जो लोक विरोधी नीतियां रही हैं, उनका इस चुनाव में वे भरपूर जवाब देंगे। भाजपा की हार होगी व लोकतंत्र इससे फिर विजयी होगा।

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री पवन बंसल ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि जैसे आप जानते हैं कि चुनाव आयोग ने तमिलनाडु, असम, केरल, पश्चिम बंगाल और पुडुचेरी चुनाव की तारीखों की घोषणा कर दी है। हम इस एलान का स्वागत करते हैं। लोकतंत्र में तय समय पर चुनाव होते हैं, होते रहने चाहिए और हम ये आशा करते हैं कि अपने संवैधानिक जिम्मेदारियों को पूरा करते हुए इलेक्शन कमीशन चुनाव को निष्पक्षता से बिना डर, बिना भय, ये चुनाव सम्पन्न करवाएंगे।

उन्होंने कहा कि पिछले कुछ समय में भारतीय जनता पार्टी की सरकारों द्वारा, खास तौर पर केन्द्र की सरकार के द्वारा आप देखते हैं कि जो नीतियां रही हैं, उनमें सरकार अपनी गलतियाँ मानने को कभी तैयार नहीं हुई। बात कुछ पुरानी है, लेकिन उसका हमारे लोग, देश की जनता खामियाजा आज भी भुगत रही है।

पवन बंसल ने कहा कि नोटबंदी हुई, लोगों को क्या परेशानियां हुई और उससे हमारी अर्थव्यवस्था पर कितनी चोट आई। जल्दबाजी के साथ बिना सोच-समझ कर जीएसटी लगाया गया। बार-बार उसमें तब्दीलियां करनी पड़ रही हैं और अभी भी सही मायने में एक बिल्कुल कुशल पूर्वक ढंग से एक सीमलैस साथ-साथ जो एक तरीके के साथ वो टैक्सेशन में जो रीफोर्म आ जाने चाहिए थे, वो नहीं आए।

उन्होंने कहा कि लोगों की परेशानियां बढ़ी हैं और जब ये सरकार कहती है कि इतने पैसे हमारे पास जीएसटी के आ गए, जिसके बार-बार ये अपना ढोल पीट-पीट कर उसका जिक्र करते हैं, और इसे कामयाबी बताते हुए अपनी पीठ थपथपाते हैं। वो भूल जाते हैं कि वो सिर्फ जीएसटी को एक बेहतर सिस्टम होने के कारण नहीं हुआ, वो महंगाई और ज्यादा टैक्सों के कारण हुआ। इतनी महंगाई ज्यादा हुई इस समय में, जिसके ऊपर उतना ही जीएसटी लोगों पर ज्यादा बढ़ गया।

ये भी पढ़ें:  कृष्ण जन्मभूमि-मस्जिद विवाद के बाद आगरा के लाल किला की खुदाई के लिए याचिका

कांग्रेस नेता ने कहा कि कोई भी वस्तु लेंगे, उन सभी पर महंगाई बढ़ी है और जो वस्तुओं पर जीएसटी है नहीं, उन पर इन्होंने और तरीका ढूंढ लिया है, वही महंगाई और भी ज्यादा लोगों की कमर तोड़ने के लिए। उसका सीधा उदाहरण पेट्रोल-डीजल, एलपीजी और दूसरे ईंधन है। समय था किसी वक्त यूपीए की सरकार इन चीजों की कीमत कम रखने के लिए, क्‍योंकि ये तो रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भी मानता है कि इनकी कीमतें बढ़ने के कारण महंगाई बढ़ती है। महंगाई पर बहुत बड़ा प्रभाव पड़ता है, तेल की बढ़ी कीमतों का। इस बात के मद्देनजर कांग्रेस और यूपीए सरकार ने उस वक्त सब्सिडी रखी हुई थी।

पवन बंसल ने कहा कि यूपीए शासनकाल में अच्छी-खासी सब्सिडी थी, जो ये हमारे अंतिम वर्ष में । लाख 47 हजार करोड़ रुपए तकरीबन थी। इन्होंने वो सब्सिडी तो तकरीबन समाप्त ही कर दी है। एलपीजी पर और कुछ कहीं – कहीं जो हमारा दूसरा ईंधन होता है, उन पर। कहीं-कहीं कुछ रखकर इन्होंने वो । लाख 47 हजार करोड़ रुपए से कम करके उसको 22 हजार करोड़ रुपए से काफी नीचे ले आए। आप अंदाजा लगा सकते हैं कितना उसमें फर्क डाला, लेकिन लोगों को वो पैसा नहीं मिला।

उन्होंने कहा कि इसके अलावा जो बात लोगों को एक चुभती है, वो ये है कि इन्होंने एक्साइज ड्यूटी बहुत बढ़ाई। आपको याद होगा किसी समय अंतर्राष्ट्रीय मार्केट में कच्चे तेल की कीमत 440 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई थी। उसके बाद इनके समय कम होते – होते 20 डॉलर प्रति बैरल पर आ गई थी, आजकल
63-60 के करीब है, लेकिन कभी इन्होंने कम नहीं किया, उतनी की उतनी भरपाई अपने खजाने के लिए कर लेते थे एक्साइज ड्यूटी बढाकर।

उन्होंने कहा कि एक्साइज ड्यूटी आप सभी जानते हैं, आपने समय-समय पर उसको रिपोर्ट किया है। वो मैं मामूली सा कहना चाहूंगा कि इन्होंने 9 रुपए 20 पैसे वाली एक्साइज ड्यूटी को बढ़ाकर पेट्रोल पर 32 रुपए 78 पैसे कर दिया है, यानि कि 23 रुपए से ज्यादा एक्साइज ड्यूटी बढ़ाई।

पवन बंसल ने कहा कि डीजल पर जो किसानों के लिए सबसे अहम चीज है, जिसकी उनको अपनी कृषि के लिए जरुरत होती है, जिस पर वो निर्भर करते हैं, उसमें 28 रुपए 37 पैसे बढ़ाया और ऐसे ही आज जो एलपीजी की हालत की है, अपनी तरफ से एक रीफोर्म, एक सुधार लाने के लिए किया, लेकिन इस वक्त उसकी कीमत इतनी ज्यादा कर दी है कि वो आम परिवार की पहुंच से बाहर हो गई है।

ये भी पढ़ें:  तेजी से बढ़ रहे कोरोना मामले, आज राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ पीएम की बैठक

कांग्रेस नेता ने कहा कि आपको याद है कि यूपीए सरकार के समय इस पर कितना हल्ला होता था, हमारे एलपीजी को लेकर। वही एलपीजी आज आसमान को छू चुकी है। आज पहली बार रिकोर्ड तोड़ कीमतें पेट्रोल पर दिल्ली में 90 रुपए से ऊपर और कुछ राज्यों में 100 रुपए से ऊपर और अजीब बात ये कहने को मिल रही है, जो तर्क इनके कभी किसी को समझ नहीं आते, कि अगर पिछली सरकारों ने इसकी प्रोडक्शन के लिए, लोकल प्रोडक्शन के इंतजाम किए होते, तो ये ना होता। तो इससे ज्यादा आप समझते हैं मुझे कहने की जरुरत नहीं।

उन्होंने कहा कि ये कारखानों में मैन्युफैक्चर नहीं होती है, रिफाईन किया जाता है, कच्चा तेल रिफाईन किया जाता है, अलग-अलग उसमें से पदार्थ निकालने के लिए। ये प्रोडक्शन नहीं होती इसकी। प्रोडक्शन जितनी हुई थी, जितने प्रोस्पेक्ट थे उसके जरिए जो प्रोडक्शन शुरु हुई, हमारी कोस्ट लाइन में हुआ, या कहीं भी हुआ, वो सिर्फ कांग्रेस के समय ही सारा काम हुआ था। तो मैं समझता हूं कि ये लोगों के लिए बहुत अहम मुद्दा है इस चुनाव में। लोगों को चुभ रहा है, लोग दुखी हैं इस बात से कि कीमत इतनी बढ़ गई है कि रहने का उनका कोई तरीका ही नहीं
कि कैसे वो अपना जीवन यापन कर सके।

देश में बढ़ती बेरोज़गारी को लेकर पवन बंसल ने कहा कि अभी जो कोविड़ के दिनों में इन्होंने अपनी मनमर्जी के साथ किया और किसी चीज की परवाह नहीं की। किस तरीके से कितने-कितने लोग सड़कों पर अपने बच्चों के साथ, बुजुर्ग मां-बाप के साथ सड़कों पर अपने-अपने घरों के लिए निकले को मजबुर हुए थे। चारों तरफ से वो लोगों पर उसका असर है। लोगों के जेहन में उसका असर है। उनकी मानसिकता पर उस चीज का उसका असर पड़ेगा। इन चीजों में जब ये कहते हैं, जिक्र करते हैं तो भी इस सरकार का अहंकार खत्म नहीं हुआ। बल्कि अहंकार बढ़ता जा रहा है, जो लोकतंत्र से मेल नहीं खाता। वह लोगों के सामने है।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें