देश बड़ी खबर

दिल्ली कूंच: किसानो ने बॉर्डर पर डेरा डाला, कई जगह पुलिस से झड़प

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली कूंच के लिए किसान पंजाब के शंभू बॉर्डर से दिल्ली में प्रवेश की कोशिश कर रहे हैं। इससे पहले शंभु बॉर्डर पर पुलिस द्वारा लगाई गई बेरिकेटिंग को किसानो ने हटा दिया। इस बीच गुरुग्राम पचगांव व कापड़ीवास के बीच राठीवास गांव मोड़ के पास से योगेंद्र यादव सहित किसानों हिरासत में लिया गया है।

किसान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बैरिकेड को उठाकर सड़क किनारे खेतों में फेंक दिया, साथ ही सड़क पर लगे डिवाइडरों को भी नुकसान पहुंचाया।किसान प्रदर्शनकारियों ने पुलिस बैरिकेड को उठाकर सड़क किनारे खेतों में फेंक दिया, साथ ही सड़क पर लगे डिवाइडरों को भी नुकसान पहुंचाया।

आंदोलनकारी किसानो की तादाद को देखते हुए दिल्ली के अलावा दिल्ली से सटी हरियाणा और उत्तर प्रदेश की सीमाओं पर भारी मात्रा में पुलिस तैनात की गई है। अंबाला हाईवे पर रोके जाने के दौरान बुधवार को किसानों की पुलिस से झड़प हुई। 100 किसान हिरासत में लिए गए।

करनाल के करना झील के पास हजारों की संख्या में किसान जुट गए हैं और वह दिल्ली की ओर कूच करने निकल पड़े हैं। पंजाब के किसान अंबाला के रास्ते हरियाणा में प्रवेश कर चुके हैं और यह किसी भी हालत में पीछे हटने को तैयार नहीं हैं।

ये भी पढ़ें:  शुक्रवार को फिर होंगी किसानो और सरकार के बीच वार्ता, कृषि कानून और MSP पर अटकी है बात

गाजियाबाद के इंदिरापुरम, नोएडा, हापुड़, खोड़ा से दिल्ली की ओर से आने वाले ट्रैफिक को यूपी गेट फ्लाईओवर से निकाला जा रहा है। नीचे से ट्रैफिक को बंद किया गया गया है।

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानो पर वाटर कैनन के इस्तेमाल को लेकर ट्वीट कर कहा कि किसानों से समर्थन मूल्य छीनने वाले कानून के विरोध में किसान की आवाज सुनने की बजाय भाजपा सरकार उन पर भारी ठंड में पानी की बौछार मारती है। किसानों से सबकुछ छीना जा रहा है और पूंजीपतियों को थाल में सजा कर बैंक, कर्जमाफी, एयरपोर्ट रेलवे स्टेशन बांटे जा रहे हैं।

वहीँ एक मीडिया रिपोर्ट को माने तो हरियाणा, पंजाब और उत्तर प्रदेश के अलावा बड़ी तादाद में अन्य राज्यों के किसान भी दिल्ली में प्रवेश को लेकर सीमाओं पर जमा हैं। इनमे महाराष्ट्र, राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ के किसान भी शामिल हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें