विशेष

बिहार रेलवे परीक्षा आंदोलन: कौन हैं खान सर, जो मुसलमान नहीं है फिर भी …..
बड़ी खबर, विशेष

बिहार रेलवे परीक्षा आंदोलन: कौन हैं खान सर, जो मुसलमान नहीं है फिर भी …..

नई दिल्ली। यूट्यूब से प्रसिद्द हुए खान सर, दरअसल मुसलमान नहीं हैं। फिर भी उन्हें अपने इस नाम से एतराज नहीं हैं। हालांकि उनके कई वीडियो विवादों के घेरे में भी हैं, जिनमे उन्होंने इस्लाम से जुड़े कुछ मामलो में मनगढ़ंत राय रखी है। शिक्षक एवं यूट्यूबर ‘खान सर’ रेलवे भर्ती बोर्ड द्वारा गैर-तकनीकी लोकप्रिय श्रेणियों (एनटीपीसी) की नौकरियों के लिए आयोजित की जाने वाली परीक्षा के प्रारूप के खिलाफ छात्रों के विरोध प्रदर्शन को कथित तौर पर उकसाने के लिए विवादों में घिरे नजर आ रहे हैं। खान सर छात्रों तक पहुंच बनाने के लिए यूट्यूब और डिजिटल मीडिया का उपयोग करके विभिन्न प्रतियोगी परीक्षाओं की कोचिंग देने के लिए मशहूर हैं। वह पटना में 'खान जीएस रिसर्च सेंटर’ के नाम से एक लोकप्रिय कोचिंग सेंटर भी चलाते हैं और अपनी अनूठी शिक्षण शैली के लिए जाने जाते हैं। उन्होंने कभी भी अपने असली नाम का खुलासा नहीं किया और ...
मिस यूनिवर्स-2021 का ख़िताब जीतने वाली हरनाज संधू के घर जश्न का माहौल
बड़ी खबर, विशेष

मिस यूनिवर्स-2021 का ख़िताब जीतने वाली हरनाज संधू के घर जश्न का माहौल

चंडीगढ़। मिस यूनिवर्स-2021 का खिताब अपने नाम करने वाली हरनाज संधू के पंजाब के खरार स्थित घर में सोमवार को जश्न का माहौल है। उनकी मां रविंदर कौर ने याद किया कि खिताब जीतने से पहले रविवार को हरनाज ने उनसे कहा था कि 'आप मुझपर गर्व करेंगी।' हरनाज ने सोमवार को इतिहास रचते हुए 79 देशों की प्रतिभागियों को पछाड़कर मिस यूनिवर्स 2021 का खिताब अपने नाम किया। भारत को 21 साल के बाद यह खिताब मिला है। इजरायल में हुए कार्यक्रम में हरनाज को मिस यूनिवर्स 2021 चुने जाते ही उसके पिता प्रीतम सिंह संधू, मां डॉक्टर रविंदर कौर संधू और भाई हरनूर सिंह खुशी से झूम उठे। हरनाज संधू से पहले सिर्फ दो भारतीय मिस यूनिवर्स का खिताब अपने नाम कर पाई हैं। अभिनेत्री सुष्मिता सेन ने 1994 में जबकि अभिनेत्री लारा दत्ता ने 2000 में यह खिताब जीता था। इस 70वीं सौंदर्य प्रतियोगिता का आयोजन इजराइल के ईलात में किया गया, जिसम...
रोज़ा रखने के साथ अपनी ड्यूटी को पूरी ज़िम्मेदारी से निभा रही है ये गर्भवती नर्स
बड़ी खबर, विशेष

रोज़ा रखने के साथ अपनी ड्यूटी को पूरी ज़िम्मेदारी से निभा रही है ये गर्भवती नर्स

अहमदाबाद। कोरोना महामारी के बीच जहां अपने ही अपनों के शवों को हाथ लगाने के लिए तैयार नहीं हैं, वहीँ सूरत के कोविड केयर सेंटर में तैनात एक नर्स रोज़ा रखने के साथ ही अपनी ड्यूटी को पूरी मुस्तैदी से कर रही है। नैंसी आयजा मिस्‍त्री नामक यह नर्स इसलिए भी चर्चा में हैं क्यों कि वह चार महीने का गर्भ होने के बावजूद न सिर्फ पूरा वक़्त मरीजों की देखरेख में लगा रही है बल्कि रमजान के महीने में अपने रोज़े भी रख रही है। जब नैंसी से पूछा गया कि आखिर वह रोज़ा रखने के साथ साथ किस तरह मरीजों की देखरेख कर रही हैं तो उन्होंने कहा कि मैं नर्स की तरह अपनी ड्यूटी कर रही हूं। मेरे लिए लोगों की सेवा ही सबसे बड़ी इबादत है। नैंसी की तारीफ़ इसलिए भी हो रही है क्यों कि उनका व्यवहार सभी मरीज़ो के साथ बेहद अच्छा रहा है और वे समय की पाबंदी का ख्याल रखती हैं। रमजान के महीने में रोज़ा रखने के बावजूद दिनभर बिना खाये -पीये वे अप...
अजब है कोरोना की कहानी, कहीं दो हज़ार का चालान तो कहीं रैलियों में लाखो की भीड़
बड़ी खबर, विशेष

अजब है कोरोना की कहानी, कहीं दो हज़ार का चालान तो कहीं रैलियों में लाखो की भीड़

नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण को लेकर अलग अलग राज्यों में अलग अलग कहानियां सामने आ रही हैं। दिल्ली में मास्क न लगाने पर दो हज़ार रुपये तक का चालान काटा जा रहा है। जबकि कुछ राज्यों में मास्क न लगाने पर पांच सौ रुपये तक का फाइन है। वहीँ इसके विपरीत चुनाव वाले राज्यों में चुनावी रैलियां लाखो लोगों की भीड़ बनी हैं। इन राज्यों में कोरोना गाइडलाइन का कोई ज़िक्र भी नहीं है। इतना ही नहीं चुनावी राज्यों असम, पश्चिम बंगाल में सर्वाधिक चुनावी रैलियां आयोजित की गई। इन रैलियों में न नेताओं के मुंह पर मास्क दिखा और न ही जनता के मुंह पर मास्क लगा दिखाई दिया। लाखो की भीड़ जुटाई गई लेकिन मंच से सिर्फ चुनावी बातें हुईं। रैलियों के दौरान किसी नेता चाहे वह पीएम नरेंद्र मोदी हों या गृह मंत्री अमित शाह या पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, किसी ने रैली में शामिल हुए लोगों से मास्क पहनने की अपील नहीं की। इसके विपरीत ...
पैन नंबर को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, अब ये है अंतिम तारीख
बड़ी खबर, विशेष

पैन नंबर को आधार से जोड़ने की तारीख बढ़ी, अब ये है अंतिम तारीख

नई दिल्ली। पैन कार्ड को आधार से जोड़ने के लिए सरकार ने एक बार फिर अंतिम तिथि को आगे बढ़ा दिया है। सरकार के एलान के मुताबिक पहले पैन को आधार से जोड़ने की आखरी तारीख 31 मार्च निर्धारित की गई थी। अब सरकार ने पैन को आधार से जोड़ने की आखिरी तारीख को आगे बढ़ाते हुए 30 जून करने का एलान किया है। आयकर विभाग के मुताबिक पैन को आधार से लिंक करने की तारीख को कोरोना महामारी के कारण आगे बढ़ाया गया है और अब लोग 31 मार्च की जगह 30 जून तक पैन को आधार से लिंक कर सकेंगे। आयकर विभाग ने ट्वीट कर बताया है कि केंद्र सरकार ने कोरोना महामारी के कारण हो रही कठिनाइयों को ध्यान में रखते हुए आधार को पैन कार्ड से लिंक करने की अंतिम तारीख 31 मार्च 2021 से बढ़ाकर 30 जून 2021 तय कर दिया है। अब लोगों के पास 3 महीने का अतिरिक्त समय है। पैन को आधार से कैसे लिंक करें? ये है तरीका: पैन को आधार से लिंक करने के लिए कई तरीके हैं। आप...
आखिरकार गीता को मिल गई उसकी मां
बड़ी खबर, विशेष

आखिरकार गीता को मिल गई उसकी मां

नई दिल्ली। काफी दिनों तक प्रयासों के बाद आख़िरकार पाकिस्तान से भारत लाई गई मूक बधिर गीता को उसकी मां मिल ही गई। गीता को पाकिस्तान में एक सामाजिक कल्याण संगठन ने जिस मूक बधिर भारतीय लड़की को आसरा दिया था और 2015 में भारत भेज दिया था। पाकिस्तान के प्रमुख अख़बार डॉन में छपी एक खबर के मुताबिक गीता को उसकी असली मां महाराष्ट्र में मिली है। खबर के मुताबिक, विश्व प्रसिद्ध ईधी वेल्यफेयर ट्रस्ट के पूर्व प्रमुख दिवंगत अब्दुल सत्तार ईधी की पत्नी बिलकिस ईधी ने बताया कि गीता नाम की भारतीय मूक बधिर लड़की को महाराष्ट्र में उसकी असली मां से मिला दिया गया है। उन्होंने यहां पीटीआई-भाषा से पुष्टि की, उसका (लड़की का) असली नाम राधा वाघमारे है और उसे उसकी असली मां महाराष्ट्र राज्य के नैगांव में मिली है। बिलकिस के मुताबिक, उन्हें गीता एक रेलवे स्टेशन से मिली थी और जब वह 11-12 की रही होगी। उन्होंने उसे कराची के अ...
क्या किसान के खिलाफ किसान खड़ा करने जा रही बीजेपी ?
बड़ी खबर, विशेष

क्या किसान के खिलाफ किसान खड़ा करने जा रही बीजेपी ?

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ आज 12 वे दिन भी किसान आंदोलन जारी रहा। मंगलवार, 8 दिसंबर को किसान संगठनों ने भारत बंद का एलान किया है। भारत बंद का पंजाब के अलावा दिल्ली से सटे हरियाणा और पश्चिमी उत्तर प्रदेश में बड़ा असर दिख सकता है। वहीँ किसानो से पांच बार बातचीत के बाद भी कोई हल न निकलने के बावजूद 9 दिसंबर को एक बार फिर किसान यूनियनों के प्रतिनिधियों और सरकार के बीच बातचीत होगी। इस बीच आज कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तौमर से मुलाकात के लिए किसानो के एक प्रतिनिधिमंडल को भेजा गया। इस प्रतिनिधिमंडल में 20 लोग शामिल थे। बताया जा रहा है कि इस प्रतिनिधिमडंल ने कृषि मंत्री से मुलाकात कर कृषि कानूनों को किसानो के हित में बताते हुए कृषि कानूनों का समर्थन किया है। इस प्रतिनिधिमंडल में कुछ किसान संगठनों के पदाधिकारी मौजूद थे। इस प्रतिनिधिमडंल में शामिल हुए प्रोग्रेसिव किसान क्लब, सोनीपत के अध्यक्ष क...
किसान आंदोलन ने ताज़ा की शाहीन बाग़ की याद, पूजा-नमाज़-अरदास सब एक जगह
बड़ी खबर, विशेष

किसान आंदोलन ने ताज़ा की शाहीन बाग़ की याद, पूजा-नमाज़-अरदास सब एक जगह

नई दिल्ली। कृषि कानूनों के खिलाफ चल रहे किसान आंदोलन ने नागरिकता कानून और एनआरसी के खिलाफ पिछले वर्ष 100 दिनों से अधिक दिन तक चले शाहीन बाग़ आंदोलन की यादें ताज़ा करा दी हैं। सिंधु बॉर्डर पर हज़ारो की तादाद में सभी धर्मो के किसान मौजूद हैं। आंदोलन में जुटे किसानो के लिए सामूहिक रूप से लंगर पकाया जाता है। आंदोलन स्थल पर ही पूजा, नमाज़ और अरदास की जा रही है। इतना ही नहीं बिना किसी धार्मिक और जातिगत भेदभाव के सभी किसान एक साथ बैठकर लंगर खाते हैं। लंगर बनाने और उसे वितरित करने का काम 25 आदमियों की एक टीम कर रही है। वहीँ पंजाब, हरियाणा और उत्तर प्रदेश से किसान आंदोलन में शामिल होने आ रहे लोग अपने साथ प्याज, आलू और आटा लेकर आ रहे हैं। जबकि दूध, सरसो का तेल, नमक, मसाले, चाय की पत्ती इत्यादि हरियाणा के किसान नियमित रूप से पहुंचा रहे हैं। भारत की असली अनेकता में एकता देखनी हो तो किसान आंदोलन इस बात ...
धर्म, न्याय और बंधुत्वता की बात करने वाले स्वामी अग्निवेश
बड़ी खबर, विशेष

धर्म, न्याय और बंधुत्वता की बात करने वाले स्वामी अग्निवेश

ब्यूरो (जावेद अनीस)। आर्य समाज के नेता स्वामी अग्निवेश जी का 81 वर्ष की उम्र में निधन हो गया है. वे ऐसे धार्मिक नेता थे जो मानते थे कि “संविधान ही देश का धर्मशास्त्र है.” स्वामी अग्निवेश खुद को वैदिक समाजवादी कहते थे. उनका मानना था कि ‘हमारे वास्तविक मुद्दे गरीबी सामाजिक-आर्थिक असमानताएं हैं जिन पर तत्काल ध्यान देने की जरूरत है.’ वे कट्टरपंथ, सामाजिक कुरीतियों और अन्य मुद्दों पर खुल कर बोलने के लिये जाने जाते थे. उनका कहना था कि ‘भारत में धन की देवी लक्ष्मी और विद्या की देवी सरस्वती की पूजा होती है फिर भी हमारा देश घोर गरीबी और अशिक्षा से घिरा हुआ है.’ उनके पहचान और काम का दायरा बहुत बड़ा था जिसमें धार्मिक सुधार के साथ प्रोफेसर, वकील, विचारक, लेखक, राजनेता, मानवाधिकार कार्यकर्ता, सामाजिक कार्यकर्ता और शांतिकर्मी जैसी भूमिकायें शामिल हैं. उनके साथी रह चुके जॉन दयाल ने उनको श्रद्धांजलि देते...
विचार: आखिर वास्तुदोष युक्त रुपये का सिंबल देश की अर्थनीति को ले डूबा
बड़ी खबर, विशेष

विचार: आखिर वास्तुदोष युक्त रुपये का सिंबल देश की अर्थनीति को ले डूबा

नई दिल्ली। भारत सरकार के राष्ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय द्वारा चालू वित्त वर्ष-2020-21 की अप्रैल-जून तिमाही में सकल घरेलू उत्पाद (जीडीपी) में सर्वकालीन 23.9 प्रतिशत की गिरावट की घोषणा ने एक बार फिर रुपये के सिंबल में वास्तु दोष की पूर्वोत्तर के वास्तु सलाहकार राजकुमार झाँझरी की भविष्यवाणी को सच साबित कर दिया है। उल्लेखनीय है कि पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के कार्यकाल में भारतीय मुद्रा रुपये का नया सिंबल जारी किया गया था। उसके बाद से ही दिन दूनी, रात चौगुनी प्रगति कर रही देश की अर्थव्यवस्था अंग्रेजी वर्णमाला के 'यूÓ वर्ण की तरह मोड़ लेते हुए लगातार निम्नगामी होती जा रही है। विगत 25 सालों में पूर्वोत्तर के 16,000 परिवारों को नि:शुल्क वास्तु सलाह देकर उनका जीवन सुधारने वाले वास्तु विशेषज्ञ राजकुमार झाँझरी ने तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह के साथ ही वर्तमान प्रधानमंत्री नरेन्द्र ...