लाइफ स्टाइल साहित्य

नम्रता चौहान की कविता “ऑनलाइन शिक्षा मासूमो की परेशानी”

कमर का बोझ हुआ है हल्का आँखों पर आकर ठहरा है बच्चों के तन मन को देखो मोबाईलो ने घेरा है किससे अपना दर्द कहे पीड़ित हैं इस दर्द से ये जब सुनने वाला ही हो गया अंधा बहरा है!! गरीबों के बच्चे क्या ऐसे पढ़ाई कर लेंगे क्या ये मासूम बच्चे रेडिएशन से लड़ […]

लाइफ स्टाइल साहित्य

अंजुम बदायूनी की ग़ज़ल: चेहरे पे तेरे तेहरीरें कुछ

ग़ज़ल चेहरे पे तेरे तेहरीरें कुछ होटों पे मगर तफसीरें कुछ आँखों में चमकते ख्वाब कई खामोश मगर ताबीरें कुछ क्यूँ देती हैं दस्तक रह रह कर नजरों में भरी तस्वीरें कुछ है माइले बकशिश शाने खुदा हम भी तो करें तदबीरें कुछ कांधों पे सुनहरा दौर लिए हैं सहमी हुई तकदीरें कुछ फिर शौक […]

बड़ी खबर लाइफ स्टाइल साहित्य

अंजुम बदायूनी की ग़ज़ल: जो तू नहीं तो ज़िंदगी में रंग क्या, कमाल क्या

ग़ज़ल (अंजुम बदायूनी) जो तू नहीं तो ज़िन्दगी मे रंग क्या, कमाल क्या वो *चर्ख़े-सुब्हो-शाम क्या, वो रोज़ो, माहो, साल क्या तरक़्क़ियों का शौक़ क्या, *तनज़्ज़ुली का ख़ौफ़ क्यूं के *मुख़्तसर हयात में *उरूज क्या, *ज़वाल क्या ये तंगो-सख़्त रास्तों पे क्या जुदाई और मिलन *वजूद की हो जंग तो *फ़िराक़ क्या, *विसाल क्या फ़क़ीरे-दिल […]

लाइफ स्टाइल साहित्य

सलिल सरोज की ग़ज़ल: निभाना आ गया है

जब से अपना जख्म छिपाना आ गया फिर हम को सब से निभाना आ गया जिन्हें चाहते थे, उनका दीदार हुआ तो बेसब्र बरसात में भी पसीना आ गया जुर्म करने वाले जुर्म करते रहे शौक से दौरे-सज़ा मजलूम पे निशाना आ गया वो दिन- रात हक़ की पैरवी करता रहा पर लोग कहते हैं […]

लाइफ स्टाइल साहित्य

सलिल सरोज की कविता: तेरे शहर में फिर से आना चाहता हूं मैं

तेरे शहर में फिर से आना चाहता हूँ मैं मेरा दिल फिर से जलाना चाहता हूँ मैं जो आग लगी लेकिन फिर बुझी नहीं उसी राख से धुआँ उठाना चाहता हूँ मैं इक दरख्त पे अब भी तेरा मेरा नाम है उसे अब शाख से मिटाना चाहता हूँ मैं तेरे नाम के किताबों में जो […]

बड़ी खबर लाइफ स्टाइल साहित्य

पुस्तक समीक्षा: बच्चों के लिए भारत का संविधान : सुभद्रा सेन गुप्ता

ब्यूरो(उपासना बेहार)। वर्तमान समय में संविधान और उसके महत्व को समझना सबसे जरुरी हो गया है. भारत का संविधान दुनिया का सबसे बड़ा लिखित संविधान है जो 22 भागों में विभजित है, इसमें 395 अनुच्छेद एवं 12 अनुसूचियां हैं. जिसे तैयार करने में 2 साल, 11 माह और 18 दिन का समय लगा. देश के […]

लाइफ स्टाइल साहित्य

उफ़ ! तमिल पुलिस का वहशीपन

जयराज और फ़ेनिक्स की निर्मम हत्या के विरोध में  ( मोहम्मद ख़ुर्शीद अकरम सोज़ ) ————————————- मेरी आँखों के आगे कुछ ख़ूनी मंज़र नाच रहे हैं ! एक वो मंज़र जिसमें जॉर्ज फ़्लायड को गला घोंट कर अमेरिकी पुलिस ने मार दिया और पस-मंज़र में उसकी चीख़ें, “मैं साँस नहीं ले सकता हूँ !” यह […]