बड़ी खबर सोशल

कहीं नागरिकता कानून पर इस साजिश का शिकार तो नहीं हुए आप?

नई दिल्ली। नागरिकता कानून को लेकर जहाँ देशभर में भी विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। वहीँ इस मुद्दे पर देश की अधिकांश जनता का समर्थन होने का दावा कर रही भारतीय जनता पार्टी ने नागरिकता संशोधन कानून पर समर्थन व्यक्त करने के लिए एक नंबर जारी किया है। इस नंबर पर मिस्ड कॉल करके नागरिकता कानून का समर्थन किया जा सकेगा।

यहाँ तक सबकुछ ठीक लगता है। लेकिन बीजेपी आईटी सेल से जुड़े कुछ ट्विटर प्रोफ़ाइल नागरिकता कानून पर अधिक से अधिक समर्थन जुटाने के लिए मिस्ड कॉल नंबर का गलत तरीके से इस्तेमाल कर रहे हैं।

महिलाओं की फोटो वाले कई ट्विटर प्रोफ़ाइल से मिस्ड कॉल नंबर का उल्लेख करते हुए दोस्ती करने के प्रस्ताव दिए जा रहे हैं। या भी लड़कियों वाली प्रोफ़ाइल फोटो से ट्वीट कर कहा जा रहा है कि यदि मेरे साथ घूमना चाहते हैं तो इस नंबर पर कॉल करें।

@followaanchal नामक ट्विटर प्रोफाइल से एक ट्वीट कर कहा गया कि अकेले हो ? मुझ से दोस्ती करोगे ? Call 88662-88662

इतना ही नहीं @__phoenix_fire_ नामक ट्विटर प्रोफाइल से किये गए ट्वीट में मिस्ड कॉल नंबर पर कॉल करने के लिए प्रलोभन दिया गया है। इसके ट्वीट में कहा गया है कि मैं अपनी मर्सिडीज में फ्री राइड दे रहा हूँ, Call 88662-88662

ये भी पढ़ें:  किसान आंदोलन में शामिल बुज़ुर्ग महिला को लेकर किये गए ट्वीट पर फंसी कंगना

एक अन्य ट्वीट में @_Chaoticwriter_ नामक ट्विटर प्रोफ़ाइल से कहा गया कि क्या कोई कॉल करना चाहता है, मैं रेंडम लोगों से बात करना पसंद करुँगी, 8866288662

गौरतलब है कि बीजेपी अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने 03 जनवरी को नागरिकता कानून का मिस्ड कॉल करके समर्थन करने के लिए ट्वीट किया था। इसके बाद बीजेपी से जुड़े कई प्रोफाइलों से भ्रमित करने वाले ट्वीट किये गए।


नागरिकता कानून पर समर्थन जुटाने के लिए तिकड़म लगाने की दास्ताँ यहीं समाप्त नहीं होती, जब ट्विटर पर पड़ताल की गई तो सैकड़ो ट्वीट इसी तरह के दिखे जिसमे बीजेपी समर्थक लोग मिस्ड कॉल से समर्थन जुटाने के लिए फ़र्ज़ीवाड़ा करते दिखे।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें