बड़ी खबर राजनीति

कर्नाटक में फिर शुरू हो सकता है नाटक, पूर्व सीएम सिद्धारमैया से मिले बीजेपी विधायक

बेंगलुरु। कर्नाटक मुख्यमंत्री सिद्धारमैया ने यह कहकर सनसनी पैदा कर दी है कि बीजेपी के कुछ विधायकों ने उनसे मुलाकात की है। सिद्धारमैया ने दावा किया कि बीजेपी के कई विधायक येदुरप्पा सरकार के कामकाज से खुश नहीं हैं, इन विधायकों को सीएम येदुरप्पा के काम करने के तरीके पर भी एतराज है।

सिद्धारमैया ने कहा कि कुछ विधायकों ने राज्य में कागजी मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा और वास्तविक मुख्यमंत्री येदियुरप्पा के बेटे बीवाई विजयेंद्र के कामकाज पर असंतोष जाहिर किया। उन्होंने कहा, ‘लोग कहते हैं कि विजयेंद्र असंवैधानिक मुख्यमंत्री के रूप में काम कर रहे हैं, हम यह नहीं कह रहे हैं, बीएस येदियुरप्पा केवल नाम के लिए सीएम हैं।’

कर्नाटक के कोप्पल शहर में एक समारोह के दौरान सिद्धारमैया ने कहा कि कांग्रेस पार्टी भाजपा के कामकाज में हस्तक्षेप नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि येदुरप्पा सरकार और भारतीय जनता पार्टी में चल रहे असंतोष के कारण येदुरप्पा सरकार स्वयं ही जल्द गिर जाएगी।

सिद्धारमैया के बयान से कर्नाटक की राजनीति एक बार फिर गरमा गई है। वहीँ पूर्व मुख्यमंत्री सिद्धारमैया के इस बयान से तिलमिलाई बीजेपी ने कहा कि सिद्धारमैया के दावे में कोई सच्चाई नहीं है कि बीजेपी विधायकों ने उनसे मुलाकात की थी।

येदुरप्पा सरकार में कृषि मंत्री बीसी पाटिल ने कहा कि सिद्धारमैया पहले भी कह रहे थे कि सारे विधायक मेरे साथ हैं, लेकिन हमने कांग्रेस छोड़ दिया। उन्होंने कहा कि सिद्धारमैया के दावों में कोई सच्चाई नहीं है और बीजेपी विधायक पूरी तरह एकजुट हैं।

वहीँ पार्टी सूत्रों की माने तो बीजेपी के अंदर पिछले एक माह से असंतोष का दौर जारी है। कई विधायक येदुरप्पा के कामकाज से खुश नहीं हैं। इन विधायकों के क्षेत्रो में कई योजनाएं अधूरी पड़ी हैं तो कई योजनाओं पर काम शुरू नहीं हो पाया है। फिलहाल ये विधायक सार्वजनिक तौर पर येदुरप्पा सरकार के खिलाफ भले ही कुछ न कह पा रहे हों लेकिन ये ख़ामोशी का दौर कब तक चलेगा इस बारे में कुछ कहा नहीं जा सकता।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें