देश बड़ी खबर

आरएसएस की उलेमा कांफ्रेंस में सीएए विरोधियों ने संघ से जुड़े मौलाना को पीटा

दिल्ली। दिल्ली में राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ द्वारा नागरिकता कानून के समर्थन में बुलाई गई मुस्लिम उलेमाओं की कांफ्रेंस ने दो गुटों के भिड़ने से माहौल तनावपूर्ण हो गया।

यह घटना जिस समय हुई उस समय आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार अन्य संघ के नेताओं के साथ मौजूद थे। दरअसल नागरिकता कानून के समर्थन में बुलाई गई कांफ्रेंस में नागरिकता कानून का विरोध करने वाले कुछ मुस्लिम भी मौजूद थे।

इस दौरान संघ से जुड़े कुछ मुस्लिम उलेमाओं ने नागरिकता कानून के समर्थन में पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह की शान में कसीदे पढ़े। इस पर नागरिकता कानून का विरोध कर रहे लोगों ने आपत्ति ज़ाहिर की। इस दौरान कार्यक्रम में मौजूद कुछ लोगों ने CAA, NRC के विरोध में नारेबाजी शुरू कर दी। कार्यक्रम में ये लोग हाथो में कागज लेकर आये थे और नारेबाज़ी करते हुए कागज दिखा रहे थे।

नागरिकता कानून के विरोध का मामला कुछ ही देर में मारपीट तक पहुँच गया और इस दौरान आरएसएस से जुड़ा एक मौलाना एक गुट की पकड़ में आ गया और उसकी पिटाई हो गई। मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस ने नारेबाजी करने वाले लोगों को हिरासत में लिया है।

ये भी पढ़ें:  विधानसभा चुनावो के लिए कांग्रेस ने की वरिष्ठ पर्यवेक्षकों की नियुक्ति

जानकारी के मुताबिक नागरिकता कानून को लेकर मुस्लिम समुदाय की भ्रांतियां दूर करने के लिए राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ (आरएसएस) ने गुरूवार को उलेमा कांफ्रेंस का आयोजन किया था। इस कांफ्रेंस में बीजेपी और संघ से जुड़े कुछ मुस्लिम नेताओं और उलेमाओं को संबोधित करना था। आरएसएस की तरफ से इस कार्यक्रम में इंद्रेश कुमार को बुलाया गया था।

गौरतलब है कि नागरिकता कानून को लेकर देशभर में विरोध प्रदर्शन चल रहे हैं। इतना ही नहीं सीएए के विरोध में देश में करीब 20 जगह अनिश्चितकालीन धरने शुरू किये गए हैं। बिहार, महाराष्ट्र, राजस्थान, उत्तर प्रदेश, दिल्ली, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक और असम में आज भी विरोध प्रदर्शन जारी हैं।

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें