लाइफ स्टाइल साहित्य

अंजुम बदायूंनी की ग़ज़ल “दिन की ज़ू, शब की चांदनी तुम से”

दिन की ज़ू, शब की चांदनी तुम से

यूं समझ लो कि ज़िन्दगी तुम से

तुम से फूलों ने दिलकशी सीखी

मैं ने सीखी है सादगी तुम से

दौरे ज़ुल्मत से क्यूं डरूं आख़िर

मेरे आंगन मे रौशनी तुम से

तुम हो रंगत मेरे ख़यालो की

मेरे अफ़कारे – बाहमी तुम से

दिल नवाज़ी के सब हुनर दे कर

सीख ली मै ने दिलबरी तुम से

मेरे शेरों की रूह मे तुम हो

दर हक़ीक़त यह शायरी तुम से

आख़िरश मै ने सीख ली ‘अन्जुम’

क़ुव्वते – इश्क़े – दायमी तुम से

(अंजुम बदायूंनी)

अपनी राय कमेंट बॉक्स में दें
सत्य को ज़िंदा रखने की इस मुहिम में आपका सहयोग बेहद ज़रूरी है। आपसे मिली सहयोग राशि हमारे लिए संजीवनी का कार्य करेगी और हमे इस मार्ग पर निरंतर चलने के लिए प्रेरित करेगी। याद रखिये ! सत्य विचलित हो सकता है पराजित नहीं।
ताज़ा हिंदी समाचार और उनसे जुड़े अपडेट हासिल करने के लिए फ्री मोबाइल एप डाउनलोड करें अथवा हमें फेसबुक, ट्विटर या गूगल पर फॉलो करें